अब मिलेगी लगेंगी ये सारी सुविधाएं 26 मई से जानिए इसके बारे में

0 719

भारत में छोटी कंपनियों, छोटे किसानों और कारीगरों की कर्जमाफी योजना पर काम शुरू हो गया है, जिसे लागू करने के लिए अगली सरकार के सामने पेश किया जाएगा।

कंपनी मामलों के सचिव इंजेती श्रीनिवास ने इकनॉमिक टाइम्स को बताया, ‘इस कर्जमाफी योजना का लाभ छोटे किसानों, कारीगरों, माइक्रो एंटरप्राइजेज या अन्य लोगों को मिलेगा।’

उन्होंने बताया, ‘यह देश के गरीबों के लिए कर्जमाफी योजना होगी।’ इस पर कंपनी मामलों का मंत्रालय काम कर रहा है। उन्होंने बताया कि इनसॉल्वेंसी ऐंड बैंकरप्सी कोड (IBC) यानी दिवाला कानून में जिन बदलावों पर विचार किया जा रहा है, उनमें से यह एक अहम पहलू होगा।

श्रीनिवास ने बताया कि अभी दिवाला कानून में छोटे कर्जदारों के लिए अलग नियम नहीं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि इस कानून के पर्सनल इनसॉल्वेंसी चैप्टर में भी बदलाव की जरूरत है।

एक मीडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक एक तय आय और संपत्ति सीमा से नीचे के लोग इस कर्जमाफी के लिए पात्र होंगे.

इसमें 60,000 या उससे कम वार्षिक आय वाले लोग, 35,000 या उससे कम के बकाया कर्ज वाले लोग और 20,000 रुपये या उससे कम की संपत्ति वाले लोग इस योजना के लिए पात्र हो सकते हैं.

श्रीनिवास ने बताया कि इसलिए अगली सरकार के सामने इसे लागू करने के लिए पेश किया जाएगा. उन्होंने बताया कि कर्जमाफी के आवेदनों को देखने और उन पर फैसला करने के लिए एक अलग टीम बनाई जा सकती है.

वहीं श्रीनिवास ने ये भी कहा, अगर कोई इस योजना का फायदा नहीं लेना चाहता तो उसे इसकी आजादी दी जाएगी. ऐसा इसलिए क्योंकि कर्जमाफी से जुड़े शख्स की साख पर बट्टा लगेगा.

साथ ही भविष्य में उसे कर्ज मिलने में परेशानी भी हो सकती है. इसलिए हम इस विकल्प को अपनी योजना में रखेंगे. श्रीनिवास ने बताया कि इस स्कीम पर 20,000 करोड़ से तक की लागत आएगी, जबकि इससे लाखों-करोड़ों लोगों को फायदा मिलेगा.

loading...

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.