कोनसी है ये 10 गलतियां टीम इंडिया की जिससे टूटा गया वर्ल्ड कप जीतने का सपना जानिए

0 1,187

आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 में टूर्नामेंट के शुरुआत से ही खिताब की प्रबल दावेदार के रूप में इंग्लैंड जाने वाली भारतीय टीम का सफर सेमीफाइनल में हार के साथ खत्म हो गया. कोहली के नेतृत्व वाली टीम इंडिया को दो दिन तक चले इस रोमांचक सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड के हाथों 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा. इस मैच में टीम इंडिया ने एक के बाद एक, कई गलतियां कीं.

गलती नंबर 1- पहली गेंद पर डीआरएस
टॉस हारकर पहले गेंदबाजी के लिए मैदान में उतरी टीम इंडिया ने पहली ही गेंद पर बड़ी गलती की. दरअसल, पहले ओवर की पहली गेंद पर भुवनेश्वर कुमार ने एलबीडब्ल्यू की अपील की जिसे अंपायर ने नकार दिया. इसके बाद कोहली ने डीआरएस का इस्तेमाल किया और रिव्यू में पता चला कि गेंद स्टंप को हिट नहीं कर रही थी. इसके बाद पहली ही गेंद पर टीम इंडिया ने डीआरएस खो दिया. अगर डीआरएस नहीं लेते तो सही समय पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता था.

गलती नंबर 2- भारत की खराब फील्डिंगवर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में पहले गेंदबाजी कर रही टीम इंडिया ने बेहद खराब फील्डिंग की. उन्होंने कई रन आउट के मौके भी छोड़े, इसमें कोहली और जडेजा जैसे सटीक निशाना लगाने वाले खिलाड़ी भी थे जो विकेट को हिट करने से चूक गए. फील्डिंग के दौरान कई खिलाड़ी चौके रोकने में नाकाम रहे. चहल ने बेहद खराब फील्डिंग की जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उनकी जमकर खिंचाई की.

गलती नंबर 3- चहल का 44वां ओवर

न्यूजीलैंड की पारी में चहल का एक ओवर भारी पड़ गया. पारी के 44वें ओवर में चहल ने 18 रन लुटाए. चहल के इस ओवर में 1 छक्का और 2 चौके पड़े. यहीं से न्यूजीलैंड की टीम को रफ्तार मिली और न्यूजीलैंड ने 4 विकेट गिरने के बाद भी 7 ओवर में 60 रन ठोक डाले. बता दें कि टीम इंडिया को हार भी 18 रन से ही मिली.

गलती नंबर 4- छठे गेंदबाज की कमी

टीम इंडिया सेमीफाइनल मुकाबले में 5 गेंदबाजों के साथ उतरी थी. वहीं, 4 मैच में 14 विकेट लेने वाले मोहम्मद शमी को भी ड्रॉप कर दिया था. इसका असर सेमीफाइनल मुकाबले में साफ तौर पर देखने को मिला. न्यूजीलैंड की पारी जहां पूरे मैच में 4.78 के रन रेट से ऊपर नहीं आ पाई.

वहीं, युजवेंद्र चहल ने 10 ओवर में 63 रन लुटा दिए. उनके अलावा हार्दिक पंड्या भी महंगे साबित हुए और 10 ओवर में 55 रन दिए. भारत के पास अगर छठा गेंदबाज होता तो यह स्थिति बेहतर हो सकती थी और न्यूजीलैंड की टीम को कम स्कोर पर रोका जा सकता था. ऐसा होता तो मैच का रिजल्ट भी बदल सकता था.

गलती नंबर 5- टॉप ऑर्डर फ्लॉप

भारत जब बल्लेबाजी करने उतरा तो टीम के सामने 240 रनों का एक छोटा लक्ष्य था. इसे प्राप्त करने के लिए टीम को महज 4.78 के रन रेट से रन बनाने थे. लेकिन टीम का टॉप ऑर्डर शुरुआत में ही बिखर गया. टीम 5 रन के स्कोर पर 3 विकेट गंवा चुकी थी. इसके बाद 24 रन के स्कोर पर टीम को चौथा झटका लगा और पूरे टूर्नामेंट में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी पवेलियन लौट चुके थे. इसके बाद टीम इंडिया पूरे मैच में न्यूजीलैंड के दबाव से उबर नहीं सकी.

गलती नंबर 6- पंत का शॉट

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मुकाबले में टीम इंडिया 240 रनों का पीछा करते हुए 24 रन पर 4 विकेट गंवा चुकी थी. इसके बाद ऋषभ पंत और हार्दिक पंड्या ने मिलकर 47 रनों की साझेदारी की लेकिन सेंटनर की गेंद पर छक्का लगाने के प्रयास में गलत शॉट खेलकर पंत बाउंड्री के पास कैच आउट हो गए. पंत ने यह शॉट तब खेला जब वो विकेट पर सेट हो चुके थे, यहां से वो अपनी पारी को और बेहतर बना सकते थे लेकिन जल्दबाजी में खेले गए शॉट ने उन्हें पवेलियन लौटने पर मजबूर कर दिया.

गलती नंबर 7- पंड्या का गलत शॉट

पंड्या गैरजिम्मेदाराना शॉट खेलकर अपना विकेट ऐसे समय पर खो बैठे जहां से टीम को एक बड़ी साझेदारी की जरूरत थी. पंड्या जब आउट हुए तो टीम को जीत के लिए 118 गेंदों में 148 रनों की दरकार थी. उन्होंने सेंटनर की पैरों पर डाली गई गेंद को उठाकर मारना चाहा और कप्तान विलियमसन को कैच थमा बैठे.

गलती नंबर 8- स्लॉग ओवर में फिर फेल हुए धोनी

पूरे वर्ल्ड कप में अपनी धीमी बल्लेबाजी के कारण आलोचकों के निशाने पर रहे महेंद्र सिंह धोनी एक बार फिर तेज गति से रन बनाने में नाकाम रहे. उन्होंने सेमीफाइनल मुकाबले में 69.44 की स्ट्राइक रेट से खेलते हुए 72 गेंदों में 50 रन बनाए. वहीं, दूसरे छोर से जडेजा बड़े शॉट लगाते रहे. लेकिन धोनी की धीमी बल्लेबाजी का असर जडेजा पर भी पड़ा और वो दबाव में आकर बड़ा शॉट लगाने के प्रयास में कैच आउट हो गए.

गलती नंबर 9- धोनी का रनआउट

धोनी का आउट होना भी सबको हैरान कर गया. उनके रन आउट होते ही टीम इंडिया के सपनों पर पानी फिर गया. धोनी को विकेटों के बीच दौड़ लगाने के मामले में माहिर माना जाता है. इस मामले में वो पंड्या तक को पीछे छोड़ चुके हैं, लेकिन इस बड़े मुकाबले में धोनी की सबसे बड़ी ताकत ही उनकी कमजोरी साबित हुई और वो मार्टिन गप्टिल के सीधे थ्रो पर रन आउट होकर पवेलियन लौट गए.

गलती नंबर 10- कम रन रेट

टीम इंडिया को न्यूजीलैंड पर फतह करने के लिए 4.78 के रेट से रन बनाने थे. लेकिन शुरू में ही लगे झटकों के कारण टीम इंडिया पूरे मैच में दबाव में दिखी. इस दौरान जो बल्लेबाज सेट हुए वो भी रन रेट को बढ़ाने के चक्कर में आउट हो गए. परिणाम यह हुआ कि टीम पर अंत के 10 ओवरों में 9 की औसत से रन बनाने का दबाव पड़ा. ऐसे में जडेजा ने जरूर ताबड़तोड़ पारी खेली लेकिन उनकी ये पारी अंत तक टीम को उसके मुकाम तक नहीं पहुंचा पाई.

 

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.