सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

क्या होना चाहिए बच्चों के पास अपना ख़ुद का मोबाइल, कैसे यह खतरनाक

0 8

दुनिया भर के बच्चों में मोबाइल सहित गैजेट्स का उपयोग खतरनाक रूप से बढ़ रहा है। ब्रिटेन में किए गए एक सर्वेक्षण के आंकड़े चौंका देने वाले हैं। ब्रिटेन में, चार से दस वर्ष के कई बच्चों के पास अपने स्मार्टफोन हैं।

इसके अलावा, 2019 में, स्मार्टफोन के साथ नौ और दस वर्ष की आयु के बच्चों की संख्या दोगुनी हो गई है।

ब्रिटेन में चार साल की तानिया का अपना मोबाइल भी है दुनिया भर के बच्चों में मोबाइल सहित गैजेट्स का उपयोग खतरनाक रूप से बढ़ रहा है।

What should children have their own smartphone, how dangerous it is मोबाइल

ब्रिटेन में, चार से दस वर्ष के कई बच्चों के पास अपने स्मार्टफोन हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

ब्रिटेन में, चार से दस वर्ष के कई बच्चों के पास अपने स्मार्टफोन है।

मीडिया के नियामक ofcom ने द एज ऑफ डिजिटल इंडिपेंडेंस की वार्षिक रिपोर्ट में यह जानकारी दी।

इसके अनुसार, तीन और चार साल की उम्र के 24% बच्चों के पास अपना टैबलेट है। लगभग 15% बच्चों को 24 घंटे के लिए इन गैजेट्स को अपने साथ ले जाने की अनुमति है।

वर्ष 2019 में, संगठन ने बच्चों के सामाजिक मीडिया की आदतों और उनके अन्य प्रकार के गैजेट्स के उपयोग पर शोध किया।र, मोबाइल फोन को बच्चों की पहली पसंद के रूप में स्थान दिया गया है।

उनके माता-पिता कहते हैं कि आज के बच्चे इंटरनेट के बिना दुनिया को नहीं जानते हैं।

दस साल से अधिक उम्र के बच्चे ज्यादातर सोशल मीडिया का उपयोग करते हैंWhat should children have their own smartphone, how dangerous it is मोबाइल

वह सामाजिक कारणों और संगठनों में सक्रिय हैं और इस विषय पर अपनी राय व्यक्त करते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, 18 प्रतिशत बच्चे किसी पोस्ट पर शेयर या टिप्पणी करते हैं।

कथित तौर पर, दुनिया भर में 17 वर्षीय पर्यावरण कार्यकर्ता, ग्रेटा थुनबर्ग इसके लिए जिम्मेदार हैं।

कई बच्चे उनका अनुसरण करते हैं और उनके पोस्ट और भाषणों पर सोशल मीडिया पर टिप्पणी करते हैं।

45% माता-पिता, हालांकि, मानते हैं कि मोबाइल जैसे गैजेट्स के लिए जोखिम हैं।

लेकिन बच्चों को इंटरनेट का उपयोग करने के कई फायदे भी हैं।

उन्हें लगता है कि बच्चे ऐसी सामग्री देख रहे हैं जो उन्हें इस उम्र में नहीं देखनी चाहिए।

इससे नुकसान भी हो रहा है। इसके अलावा, 80 प्रतिशत बच्चे सोशल मीडिया पर ऑन-डिमांड वीडियो देखते हैं,

जबकि 62 प्रतिशत व्हाट्सएप में रुचि रखते हैं।

इसके अलावा, पांच और 15 साल की उम्र के बीच 48 प्रतिशत और 71 प्रतिशत लड़कियां ऑनलाइन गेम खेलती हैं।

आपको हमारा लेख कैसा लगा हमे कॉमेंट कर के जरूर बातये ताकि आपकी लिए हम कुछ और बेहतर कर पाए और साथ ही नीचे पीले रंग के बटन को दबाकर हमे फॉलो करना ना भूले।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.