Tulsi Plant: रविवार को क्यों नहीं तोड़ने चाहिए तुलसी के पत्ते? इस दिन जल चढ़ाने का क्या कारण है?

0

Tulsi Plant: Why shouldn't basil leaves be plucked on Sunday? What is the reason for offering water on this day?

रविवार को तुलसी के पौधे में जल क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए : घर में रोजाना तुलसी और अदरक की चाय बनाई जाती है। लेकिन रविवार की छुट्टी होने के बावजूद भी कई बार चाय में तुलसी का स्वाद नहीं मिल पाता. क्योंकि शनिवार को आप तुलसी के अतिरिक्त पत्ते तोड़ना भूल गए थे और आज रविवार है तो परिवार में कोई भी तुलसी को छू नहीं सकता. ऐसे में मन में यह सवाल जरूर आता है कि रविवार के दिन तुलसी के पत्ते क्यों नहीं तोड़ सकते?

इतना ही नहीं रविवार के दिन पूजा के बाद तुलसी पर जल चढ़ाना भी वर्जित है। घर में माँ और दादी अक्सर मना करती थीं और कहती थीं कि आज तुलसी में नहीं बल्कि किसी और पौधे में पानी डालना चाहिए, ऐसा क्यों होता है? क्या इसके पीछे कोई वैज्ञानिक कारण है या यह सिर्फ एक अंधविश्वास है जो होता आया है और आज भी हो रहा है? आज हम जानते हैं इस सवाल का जवाब…

तुलसी एवं धार्मिक मान्यताएँ

आज भी हमारे भारतीय समाज में तुलसी को सबसे पवित्र पौधा माना जाता है। हमारे लिए तुलसी पहले एक धार्मिक पौधा है और फिर एक औषधीय पौधा है। यही कारण है कि लगभग सभी हिंदू घरों में आपको तुलसी का पौधा जरूर मिलेगा।पौराणिक कथाओं के अनुसार, तुलसी का पौधा देवी तुलसी का ही एक रूप है। देवी तुलसी भगवान विष्णु के एक रूप भगवान शालिग्राम की पत्नी हैं। देवी तुलसी को विष्णुजी ने वरदान दिया है कि भगवान ऐसी किसी भी पूजा को स्वीकार नहीं करेंगे जिसमें वह मौजूद नहीं होंगी। तुलसीजी को यह वरदान कब और क्यों मिला, इसके बारे में हम दूसरे लेख में बात करेंगे। अभी तो बस इतना समझ लीजिए कि तुलसी के इसी वरदान के कारण हर पूजा में इसकी पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है।

रविवार को तुलसी के पत्ते क्यों नहीं तोड़ते?

हिंदू धर्मग्रंथों में तुलसी को पौधे से ज्यादा देवी तुलसी का एक रूप माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, रविवार के दिन देवी तुलसी विष्णु ध्यान और विश्राम करती हैं। जबकि अन्य दिनों में वह जन कल्याण और अपने भक्तों के कल्याण के लिए उपस्थित रहते हैं। रविवार के दिन तुलसी जी के ध्यान और विश्राम में कोई विघ्न न आए, इसलिए रविवार के दिन तुलसी पर जल चढ़ाना और तुलसी के पत्ते तोड़ना वर्जित है।

इस दिन तुलसी को जल भी न चढ़ाएं

रविवार ही नहीं बल्कि एकादशी के दिन भी तुलसी पर जल चढ़ाना और तुलसी के पत्ते तोड़ना वर्जित है। क्योंकि धार्मिक और पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, एकादशी के दिन तुलसीजी भगवान विष्णु के लिए निर्जल व्रत रखती हैं। ऐसे में अगर आप उन पर पानी डाल देंगे तो उनका व्रत टूट जाएगा. इसके अलावा यदि आप उनकी पत्तियां तोड़ेंगे तो उन्हें कष्ट और परेशानी होगी। इसीलिए हर रविवार और एकादशी के दिन तुलसीजी को दूर-दूर से प्रणाम किया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.