Shaniwar Upay: शनिवार को करें सिर्फ ये 5 काम, शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या नहीं देगी परेशानी

0

शनिवार उपाय: हिंदू धर्म में सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवता की पूजा के लिए समर्पित है। उसी प्रकार शनिवार का दिन शनिदेव को समर्पित है। शनि न्याय के देवता हैं। इसीलिए इन्हें न्यायाधीश भी कहा जाता है। शनिदेव व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार ही फल देते हैं।

जो व्यक्ति शनिवार के दिन शनिदेव की विधि-विधान से पूजा करता है, उससे शनिदेव प्रसन्न रहते हैं और उसे कभी दंड नहीं देते। इसके साथ ही शनिदेव ऐसे लोगों की हर मनोकामना भी पूरी करते हैं। लेकिन यदि शनिदेव किसी से नाराज हो जाएं या जन्म राशि के आधार पर शनि की साढ़े साती या ढैय्या का प्रभाव चल रहा हो तो ऐसे लोगों के जीवन में तमाम तरह की परेशानियां आती हैं।

ऐसे लोगों को विशेष रूप से शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करनी चाहिए। शनि की साढ़े साती और ढैय्या के प्रभाव से बचने के लिए आप शनिवार के दिन ये उपाय भी कर सकते हैं। इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

 

शनिवार के दिन करें ये 5 उपाय, शनिदेव होंगे प्रसन्न

  • शनिवार के दिन काले तिल का दान करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। इस दिन गरीबों या जरूरतमंदों को काले तिल का दान करना चाहिए।
  • शनिदेव की पूजा करते समय नीलम रत्न की माला या अंगूठी पहनकर पूजा करनी चाहिए। इससे शनिदेव भी प्रसन्न होते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि बिना ज्योतिषी की सलाह के कोई भी रत्न न पहनें।
  • शनिवार के दिन पूजा करते समय शनि देव के शक्तिशाली मंत्र ‘ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः’ का जाप करें, इससे शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव कम हो जाता है।
  • शनिवार के दिन पीपला वृक्ष की पूजा करें और उसकी परिक्रमा करें और उसमें कच्चा धागा बांधें। इसके साथ ही आप शनिदेव को पिप्पला के पत्तों की माला भी चढ़ा सकते हैं। इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं।
  • हनुमानजी की पूजा करने वाले भक्तों को भी शनिदेव कभी कष्ट नहीं देते। इसलिए शनिवार के दिन शनिदेव के साथ-साथ हनुमान जी की भी पूजा करने का विधान है। शनिवार के दिन शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने और हनुमान चालीसा का पाठ करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं और सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.