सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

जानिए वैज्ञानिकों ने ब्लैकहोल के बारे में यह चीज इतनी देर से क्यों बताई

0 239

वैज्ञानिकों ने ज्ञात ब्‍लैकहोल के निर्माण पर से पर्दा उठा दिया है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के चंद्र एक्‍सरे वेधशाला से प्राप्‍त आंकड़ों के विश्‍लेषण के आधार पर वैज्ञानिकों ने बताया कि पिछले साल दो न्‍यूटॉन तारों के विलय के कारण गुरुत्‍वीय तरंग उत्‍पन्‍न हुई थी और संभवत: इसी वजह से सबसे कम द्रव्‍यमान के ज्ञात ब्‍लैकहोल का निर्माण हुआ था।

लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रेविटेशनल वेव्‍स ऑब्‍जर्वेटरी और नासा के फर्मी मिशन ने पिछले साल 17 अगस्‍त को गुरुत्‍वीय तरंगों का पता लगाया था। जिसके बाद कई दिन, हफ्तों और महीनों तक आंकड़े एकत्रित किए गए।

Quiz & Earn Money  go this link :  http://quizoffers.online/

सभी दर्शकों ने जीडब्‍लयू 170817 तरंगों को दर्ज किया और इस कड़ी में चंद्र से प्राप्‍त एक्‍सरे किरणें इस बात को समझने में महत्‍वपूर्ण साबित हो सकती हैं कि आखिर दो न्‍यूट्रॉन तारों के टकराने के बाद क्‍या हुआ होगा। लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रेविटेशनल वेव्‍स ऑब्‍जर्वेटरी से प्राप्‍त आंकड़ों के आधार पर खगोलविदों ने इस बात का लगभग ठीक आकलन कर लिया था कि न्‍यूट्रॉन तारों के विलय के कारण उत्‍पन्‍न खगोलीय पिंड का द्रव्‍यामन सूर्य की तुलना में 2.7 गुना बड़ा है।

इन आंकड़ों से इस संभावना को बल मिलता है कि पिछले साल की इस खगोलीय घटना से या तो सबसे बड़े न्‍यूट्रॉन तारे का निर्माण हुआ होगा या सबसे कम द्रव्‍यमान का ब्‍लैकोल बना होगा। ऐसा इसलिए भी कहा जा रहा है कि क्‍यों कि पूर्व में दर्ज खगोलीय पिंड सूर्य के द्रव्‍यमान से कम से कम चार या पांच गुना बड़े थे।

Also Read :- सवालों के जबाब देकर जीते हजारो रुपये 

यदि आपको यह आर्टिकल पसन्द आया हो तो ज्यादा से ज्यादा शेयर करें.
यह है वो 4 भारतीय खिलाडी जिनका 2019 विश्व कप में खेलना पक्का | Top 4 batsman play in world cup 2019

IPL 2018 की ताज़ा ख़बरें मोबाइल में पाने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.