अगर अपने अपने पैसे LIC में लगा दिए लेकिन स्किम पसंद नहीं है आपके सरे पैसे वापस हो जायेगे

0 738

अक्सर लोग LIC की पॉलिसी खरीद तो लेते हैं लेकिन उस पॉलिसी को लेकर संतुष्ट नहीं होते. वो अक्सर पॉलिसी लेने के बाद इस टेंशन में रहते हैं कि जो पॉलिसी उन्होंने ली है वो उनके लिए कितनी सही और किफायती है.

अगर आप भी पॉलिसी लेने के बाद इस स्थिति में आ गए हैं तो हम आपको एक ऐसा तरीका बता रहे हैं, जिससे आप पॉलिसी लेने के बाद उस पॉलिसी का पैसा वापस पा सकते हैं. हम बात कर रहे हैं फ्री-लुक पीरियड की. फ्री लुक अवधि का लाभ आप 15 दिनों तक उठा सकते हैं.

फ्री-लुक अवधि के दौरान आप कंपनी को पॉलिसी वापस कर सकते हैं. इरडा के दिशानिर्देशों के अनुसार बीमा कंपनियां पॉलिसी धारकों को पॉलिसी जारी करने के बाद फ्री-लुक अवधि उपलब्ध कराती है.

इन पॉलिसी पर होती है लागू

फ्री-लुक अवधि के कुछ पहलू ये हैं कि यह कम से कम 3 साल की जीवन बीमा पॉलिसी या स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी पर ही लागू होती है. इस अधिकार का प्रयोग पॉलिसी के दस्तावेज मिलने के 15 दिनों के भीतर किया जा सकता है. पॉलिसी दस्तावेज की प्राप्ति की तारीख साबित करने का दायित्व पॉलिसीधारक का होता है.

कैसे उठाएं फ्री लुक अवधि का लाभ 

पॉलिसीधारक बीमा कंपनी को उसकी फ्री-लुक अवधि की दिशा में काम करने के लिए लिख सकता है. अधिकतर मामलों में कंपनी की वेबसाइट से फ्री लुक फार्म डाउनलोड किए जा सकते हैं. इसमें पॉलिसीधारक को पॉलिसी के दस्तावेज मिलने की तिथि, एजेंट की जानकारी और रद्द करने या बदलने के कारण के बारे में जानकारी देनी होती है. इसके अलावा पॉलिसी के मूल दस्तावेज, पहले प्रीमियम की रसीद, एक कैंसिल चेक और अन्य दस्तावेज जमा कराने होते हैं. पैसे वापस देने के मामले में पॉलिसीधारक को बैंक संबंधी जानकारी भी उपलब्ध कराने की जरूरत होती है.

 

कंपनी के जरिए पॉलिसी कैंसल करें

अगर आपने पॉलिसी कैंसल करने का फैसला कर लिया है तो सिर्फ एजेंट को बोलने से काम नहीं चलेगा. एजेंट इस प्रोसेस में देरी कर सकता है. ऐसी कई घटनाएं हुई हैं, जब एजेंट फ्री-लुक पीरियड खत्म होने तक डॉक्युमेंट्स अपने पास ही रखे रहते हैं.

 

इसलिए आप अपना फैसला सीधे कंपनी को बताएं. पॉलिसी कैंसलेशन ऐप्लिकेशन जमा करने के लिए आपको कंपनी के दफ्तर जाना चाहिए. कई कंपनियां वेबसाइट्स पर कैंसलेशन फॉर्म डालकर रखती हैं, जिसे डाउनलोड किया जा सकता है.

 

प्रीमियम के फुल रिटर्न की उम्मीद न करें

कैंसलेशन कराने पर भी प्रीमियम की पूरी रकम का रिफंड नहीं होगा. यहां तक कि अगर आप फ्री-लुक पीरियड के दौरान पॉलिसी रिटर्न करते हैं तो भी कंपनी मेडिकल टेस्ट और स्टांप ड्यूटी का खर्च काटकर ही पैसे लौटाएगी.

loading...

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.