सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

भारत की ये मोबाइल कंपनियां है जो देती है चीन को टक्कर

25
these-are-the-mobile-companies-of-india-that-give-competition-to-china-see-now-मोबाइल

इस समय चीन के खिलाफ दुनिया के कई देश हैं। कोरोनावायरस और उसके बाद भारत-चीन सीमा विवाद अधिक गर्म हो गया है। सोशल मीडिया पर चीनी कंपनियों के बहिष्कार की चर्चा है।  इसके अलावा, बीएसएनएल और एमटीएनएल को 4 जी विस्तार के लिए चीनी कंपनियों की मदद नहीं लेने के लिए भी कहा गया है। जब भी चीन के बहिष्कार की बात होती है, तो चीनी मोबाइल कंपनियां पहले निशाने पर होती हैं। इस बार भी यही हो रहा है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार, जनवरी से मार्च के बीच, भारत में फोन की बिक्री का 81 प्रतिशत चीनी कंपनियों द्वारा बेचा गया था।

माइक्रोमैक्स और लावा जैसी कंपनियां भारत के मोबाइल बाजार का सिर्फ एक फीसदी हिस्सा हैं, लेकिन अगर भारतीय कंपनियां #vocalforlocal आंदोलन का फायदा उठाती हैं, तो वे फिर से बाजार में लौट सकती हैं। अब सवाल यह है कि अगर चीनी मोबाइल कंपनियों का पूरी तरह से बहिष्कार किया जाता है तो भारत की ऐसी कौन सी मोबाइल कंपनियां हैं जो उनकी जगह ले सकती हैं।

माइक्रोमैक्स

2017-18 तक माइक्रोमैक्स, घरेलू कंपनी माइक्रोमैक्स की भारतीय मोबाइल बाजार में मजबूत पकड़ थी।

लोग माइक्रोमैक्स के फीचर्स से लेकर स्मार्टफोन तक खरीदते थे,

लेकिन चीनी कंपनियों के वर्चस्व के बाद माइक्रोमैक्स ने एक तरह से अपना मोबाइल कारोबार बंद कर दिया।

माइक्रोमैक्स अपने आगामी फोन के लिए #MadeByIndian और #MadeForIndian हैशटैग का उपयोग कर रहा है, हा

लाँकि कंपनी ने यह जानकारी नहीं दी है कि इसके फोन भारत में बने हैं या चीनी कंपनी की मदद से बनाए गए हैं।

these-are-the-mobile-companies-of-india-that-give-competition-to-china-see-now-मोबाइल

लावा इंटरनेशनल

माइक्रोमैक्स के बाद  लावा भारत में अग्रणी मोबाइल कंपनी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, लावा भी जल्द ही अपना नया स्मार्टफोन पेश करने की तैयारी में है।

आगामी लावा स्मार्टफोन को Z66 मॉडल नंबर के साथ बेंचमार्क साइट गीकबेंच पर स्पॉट किया गया है,

जहां से इसके कई फीचर्स बताए गए हैं।

लिस्टिंग के अनुसार, उपयोगकर्ताओं को इस स्मार्टफोन में एचडी डिस्प्ले, एंड्रॉइड 10, 3 जीबी रैम और UNISOC प्रोसेसर का समर्थन मिलेगा। इसके अलावा, लावा के इस अग्रणी स्मार्टफोन को सिंगल कोर में 153 और साइट पर मल्टी कोर में 809 अंक मिले हैं।

हालाँकि, लावा ने अभी तक इस स्मार्टफोन के लॉन्च से जुड़ी आधिकारिक जानकारी साझा नहीं की है।

भारत में लावा के सफर की बात करें तो कंपनी की शुरुआत 2009 में हुई थी।

बाद में कंपनी ने अपना सबब्रांड Xolo भी पेश किया जिसके तहत कई सस्ते स्मार्टफोन पेश किए गए।

वर्ष 2019 तक, कंपनी में कुल 10 हजार से अधिक कर्मचारी थे।

Karbonn Mobiles

हालांकि फिलहाल बाजार में कोई Karbonn स्मार्टफोन नहीं हैं,

लेकिन अब खबरें आ रही हैं कि कंपनी जल्द ही स्मार्टफोन बाजार में एंट्री लेने वाली है।

ET की रिपोर्ट्स के मुताबिक, Karbonn Mobile 10 हजार रुपये में स्मार्टफोन लॉन्च करेगा।

बता दें कि फीचर फोन मार्केट में Karbonn की अच्छी पकड़ है।

कंपनी भारत में हर साल लगभग 8-10 लाख फीचर फोन कर रही है।

these-are-the-mobile-companies-of-india-that-give-competition-to-china-see-now-मोबाइल

इंटेक्स ( Intex )

इंटेक्स भारत की सबसे पुरानी मोबाइल कंपनी है लेकिन कंपनी 2018 से बाजार से गायब है।

कंपनी की स्थापना 1996 में हुई थी। एक समय में, इंटेक्स की स्मार्टफोन और फीचर फोन दोनों मार्केट में पकड़ थी,

लेकिन पिछले दो के लिए सालों से कंपनी ने कोई स्मार्टफोन बाजार में नहीं उतारा है।

चीन के विरोध और #vocalforlocal आंदोलन के बीच भी कंपनी की बाजार में वापसी पर कोई रिपोर्ट नहीं आई है।

भारत की सभी मोबाइल कंपनियों की निर्भरता चीन पर अब तक है क्योंकि भारत में मोबाइल पार्ट्स का उत्पादन नहीं किया जाता है।

अब यह देखा जाना बाकी है कि भारतीय मोबाइल कंपनियाँ बाज़ार में वापस आने के लिए कहाँ से क्या माँग रही हैं।

चीन के बाद मोबाइल भागों के लिए वियतनाम नया घर हो सकता है।

 

 

Advertisement

Comments are closed.