सात रोगों की एक दवा अभी जानिए फायदे नुकसान और उपयोग

0 362

भृंगराज एक बहुत ही उपयोगी औषधीय पौधा है जिसका उपयोग शरीर के अंदर या बाहर होने वाली अनेक प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। आयुर्वेद चिकित्सक प्रायः बालों को झड़ने से रोकने, बालों के पकने, बालों के बढ़ने, लीवर, किडनी सहित पेट की कई बीमारियों के लिए मरीज को भृंगराज के सेवन की सलाह देते हैं।

CISF ASI Jobs 2019 Notification – Must Apply for 1314 Posts

GSRTC Jobs 2019: Apply Online for 2389 Conductor Posts

UPSC Jobs 2019: Apply Online for 67 Company Prosecutor, Specialist & Other Posts

भृंगराज के औषधीय गुण

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

इसके अंदर अनेक प्रकार के एंटी-ऑक्सिडेंट्स जैसे- फ्लैवानॉयड और एल्कलॉइड होते हैं, जो शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले हानिकारक पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने का काम करते हैं।

भृंगराज के फायदे

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

1. गंजेपन के इलाज़ में: भृंगराज को केसराज के नाम से भी जाना जाता है। इसे वर्षों से झड़ते बालों को रोकने, बालों को काला करने एवं त्वचा संबंधी बीमारी के उपचार के रूप प्रयोग किया जा रहा है।

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

2. इम्युनिटी क्षमता बढ़ाने में मदद: यह शरीर की प्रतिरक्षा शक्ति को मजबूत बनाने वाली कोशिकाओं (फेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में सहायता करता है। यह हमारे शरीर को संक्रमण से बचाने वाली सफेद रक्त कोशिकाएं को बढ़ाने का काम करता है।

3. कफ एवं वात विकार में फायदेमंद : भृंगराज के अंदर पोषक तत्व होता है जो कफ एवं वात विकार को कम करने का काम करता है।

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

4. लीवर एवं किडनी संबंधी विकार में मदद: भृंगराज लीवर के साथ-साथ किडनी के लिए भी फायदेमंद होता है। इसके जड़ का प्रयोग शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले पदार्थों को बाहर निकालने और शारीरिक कार्यप्रणाली को गतिशील रखने के लिए किया जाता है।

5. फैटी लीवर और पीलिया आदि में फायदेमंद : इसके अंदर एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लैमटेरी गुण होता है। जो फैटी लीवर, पीलिया आदि जैसी बीमारी में फायदा पहुंचाता है।

6. त्वचा के संक्रमण का इलाज: भृंगराज एक जड़ी बूटी है जिसमें एंटी-इंफ्लामेंटरी होता है। यह त्वचा को संक्रमण से सुरक्षित रखता है।

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

7. अपच, कब्ज एवं पेट संबंधी अन्य परेशानी में फायदेमंद: इसके अंदर रहने वाला एंटी-इंफ्लमैटरी तत्व लीवर को स्वस्थ रखकर, पेट की कार्यप्रणाली को सुगम बनाने का काम करता है, जिससे आंत सुचारू रूप से कार्य करता है और अपच, कब्ज और पेट की अन्य परेशानियों से राहत मिलती है।

सेवन का तरीका

Beetleraj A drug of seven diseases, just know the advantages and disadvantages and uses

आप इसके पाउडर में तेल मिलाकर भी प्रयोग में ला सकते हैं या फिर बाजार में मिलने वाली भृंगराज के कैप्सूल को खाकर समस्याओं से राहत पा सकते हैं।
आप 2 से 3 ग्राम भृंगराज पाउडर को शहद के साथ मिलाकर हल्का खाना खाने के बाद, दिन में दो बार ले सकते हैं।

भृंगराज के नुकसान

अधिक मात्रा में सेवन करने से आपको पेट से संबंधित परेशानी हो सकती है।
अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं और आपके शुगर का लेवल बढ़ा हुआ है तो भृंगराजासव के सेवन से बचना चाहिए।
दोस्तों, ये आर्टिकल आपको कैसा लगा ? कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और लाइक, शेयर, फॉलो करना न भूले। धन्यवाद

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.