सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

फुटबॉल खेलने से बदल गई दलित लड़की की जिंदगी : हो गई मालामाल

0 159

भारत में दलितों की स्थिति बहुत दयनीय है। आज भी दलितों को समाज में अच्‍छी निगाह से नहीं देखा जाता है। जगह जगह दलितों पर अत्‍याचार होने की खबरों से हम सबका दिल दहल जाता है।
लेकिन चाहे लाख कठिनाइयां हों, जिंदगी आगे बढ़ने का रास्‍ता तलाश ही लेती है। ऐसा ही कुछ हरियाणा के भिवानी जिले के अलखपुरा गांव की अन्‍याबाई के साथ हुआ है। अन्‍याबाई बहुत ही गरीब परिवार की लड़की है। जिसने अपनी मेहनत और लगन से अपनी तकदीर खुद ही लिखी है।

अन्‍याबाई को बचपन से ही फुटबॉल खेलने का शौक था। फुटबॉल खेलते खेलते आज वह इस मुकाम पर आ गई है। जहां से वह अपने परिवार को भी सहारा दे सकती है।

अन्‍याबाई ने 15 साल की उम्र में जीता था 54000 रूपये का ईनाम :
हरियाणा की अन्‍याबाई जब महज 15 साल की थी। तब उसने अपने स्‍कूल की ओर से प्रदेश स्‍तर का फुटबॉल मैच खेला था। जिसमें वह 54 हजार रूपये का ईनाम जीतने में कामयाब हुई थी।
बताया जाता है कि उसकी यह पुरस्‍कार राशि उसकी मां की कुल वार्षिक आया से भी ज्‍यादा थी। इस पुरस्‍कार को जीतने के बाद अन्‍याबाई ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा।

अन्‍याबाई ने एक अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍पर्धा में भी भारत का प्रति‍निधित्‍व किया था। वह दक्षिण एशियाई फुटबॉल फेडरेशन के अंडर 15 गेम्‍स में भी हिस्‍सा ले चुकी है।

अन्‍याबाई हर साल 2 से 3 मैच खेलती है और कमा लेती है ढाई लाख रूपये तक :
अन्‍याबाई को हर साल 2 से 3 मैच खेलने का मौका मिलता है। पिछले साल उसे फुटबॉल मैच खेलने पर ढाई लाख रूपये प्राप्‍त हुए थे। इन पैसों से वह अपने परिवार की मदत करती है और अपनी पढ़ाई भी निर्बाध रूप से कर रही है। कुल मिला कर अन्‍याबाई की यह उपलब्धि बहुत बड़ी है, क्‍योंकि दलित समाज में जन्‍म लेने के कारण उसे बहुत सी कठिनाइयों से भी गुजरना पड़ा है। लेकिन उसकी मेहनत और लगन के कारण उसका भविष्‍य सुनहरा हो गया है।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.