सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

आंखों को पूरी तरह से बर्बाद कर देती है ये गलती जो आप रोज़ करते है

0 226

जैसे की मनुष्य के लिए उसके हाथ पैर ज़रूरी होते है वैसी ही उसके लिए उसकी आंखे भी बेहद ज़रूरी होती है और अगर किसी व्यक्ति के पास आंखे न हो तो उसे अपनी ज़िन्दगी में काफी परेशानियो का सामना करना पड़ता है और वो व्यक्ति जैसे किसी का मोहताज बन जाता है, इसीलिए अपनी आंखो का ख्याल रखना बेहद ज़रूरी है.

Related Posts

भगवान भी देते हैं अच्छे समय का संकेत, ऐसे समझिए यह इशारे

आज के ज़माने में ज़्यादातर लोगो को काफी कम उम्र में ही चश्मा लग जाता है और कई सारे लोगो को काफी कम उम्र में ही आंखो से पानी आने लगता है. अगर आपकी आंखो से पानी आ रहा है तो इसका मतलब ये संकेत होता है की आपकी आंखे कमजोर हो रही है.
आंखों के कमजोर होने का कारण वो गलती है जो हम रोज़ करते है. अब आप सोच रहे होंगे की वो कौन सी गलती है जो हम रोज़ करते है और उसकी वजह से हमारी आंखे कमजोर हो रही है, तो हम आपको बता दे की वो गलती रात में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करना है.
आज के ज़माने में चाहे वो लड़का हो या लड़की हो हर कोई रात के समय अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल ज़रूर करता है और कुछ लोग तो ऐसे होते है की जब तक वो आपके स्मार्टफोन का इस्तेमाल नहीं करते है उन्हें नींद नहीं आती है लेकिन रात के अंधेरे में स्मार्टफोन का इस्तेमाल कभी नहीं करना चाहिए क्योंकि आंखों के ख़राब होने का और आंखो पर चश्मा लगने का सबसे बड़ा कारण रात में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करना ही है.

जब आप रात के अंधेरे में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते है तो स्मार्टफोन की पूरी रोशनी हमारी आंखो पर पड़ती है और हमारी आंखे भी सिर्फ स्मार्टफोन की तरफ ही आकर्षित रहती है जिससे की आंखो में से पानी आने लगता है और आंखो की रोशनी कम होने लगती है. कई सारे लोगो को लगता है की रात के समय स्मार्टफोन की ब्राइटनेस कम करके स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से आंखो पर बुरा असर नहीं पड़ता है लेकिन ये बिलकुल भी गलत है क्योंकि ब्राइटनेस कम करने के बाद भी अंधेरे में स्मार्टफोन से किरणे निकलती है जो हमारी आंखो को नुकसान पहुंचाती है.

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.