सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

हिन्दू धर्म में जानें क्यों की जाती हैं ये चार तरह की आरती ?

19

आरती का अर्थ है चिंतित होकर भगवान को याद करना, विचलित होना, उनकी स्तुति करना। आरती पूजा के बाद धूप, अगरबत्ती, कपूर, दीया होता है। आरती एक, तीन, पांच, सात जैसी विषम संख्याओं का प्रयोग करती है। आरती एक विज्ञान है। आरती के साथ-साथ ढोल, शंख, घंटियां आदि वाद्य यंत्र बजाए जाते हैं। इन यंत्रों की ध्वनि कीटाणुओं को मारती है।

आरती चार प्रकार की होती है: – दीप आरती – जल आरती – धूप, कपूर, अगरबत्ती आदि। आरती – पुष्पा आरती

दीप आरती: दीया जलाकर आरती करने का अर्थ है दुनिया में प्रकाश के प्रसार के लिए प्रार्थना करना।

जल आरती: जल आरती करने का अर्थ है जीवन के जल के माध्यम से भगवान की आरती करना।

पुष्पा आरती: दीपों और धूप की सुगंध चारों ओर फैल जाती है। वातावरण भी सुगंध से भर जाता है फूल सुंदरता और सुगंध के प्रतीक हैं। अन्य कोई यंत्र न होने पर फूलों की आरती की जाती है।

धूप, कपूर, अगरबत्ती आरती: धूप, कपूर और अगरबत्ती सुगंध का प्रतीक है। यह वातावरण को सुगंधित करता है और हमारे मन को प्रसन्न करता है।

आरती के बाद हाथ में मंत्रों के साथ भगवान को फूल चढ़ाए जाते हैं और पूजा-अर्चना की जाती है। इसका मूल्य यह है कि इन फूलों की सुगंध की तरह हमारी प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैलती है और हम खुशियों से भरा जीवन जीते हैं।

Advertisement

Comments are closed.