सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

हार्दिक से पहले चयनकर्ता ने इन 4 आलराउंडर को टीम में लेना चाहते थे, नंबर 2 था सबका फेवरेट

216

इंटरनेशनल क्रिकेट में एक आलराउंडर की बड़ी इज्ज़त होती है क्योंकि वो इस कल में एकमात्र ऐसा खिलाड़ी होती है. जो बल्ले के अलावा गेंद से अपना योगदान दे सकता है और टीम को जीत दिला सकता है. टीम इंडिया में भी ऐसे कई आलराउंडर हुए जैसे – कपिल देव, मोहिंदर अमरनाथ, रोजर बिन्नी समेत इन सभी आलराउंडर को टीम इंडिया का मैच विनर माना गया. लेकिन टीम इंडिया में कपिल देव के जैसा आजतक दूसरा आलराउंडर ही नहीं हुआ.

लेकिन कपिल देव के जाने के बाद सालों तक टीम इंडिया ने हर तरह के आलराउंडर को जगह दी. लेकिन कोई भी अपनी जगह पक्की नहीं कर सका. तभी इसके बाद आईपीएल के माध्यम से टीम इंडिया में एंट्री हुई हार्दिक पांड्या की, लेकिन हार्दिक भी कपिल पाजी की कमी को पूरा नहीं कर सकें.

टीम इंडिया में हार्दिक की एंट्री के बाद लोग उन्हें कुंग-फू-पांड्या के नाम से पुकारने लगे. हार्दिक से पहले भी टीम इंडिया में कई ऐसे आलराउंडर को मौका मिला, लेकिन कोई भी आलराउंडर अपनी जगह टीम में पक्की नहीं कर सका. हार्दिक के टीम में आने के बाद से पहले तक हर खिलाड़ी को खूब मौके मिले, हार्दिक पर कप्तान कोहली का हाथ होने से बा उनका बतौर आलराउंडर टीम में जगह पक्की है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि हार्दिक से पहले चयनकर्त्ता इन 4 आलराउंडर को टीम इंडिया में लेना चाहते थे, तो चलिए जानते हैं कि ये कौन-से खिलाड़ी हैं…

(4) अक्षर पटेल

गुजरात के इस आलराउंडर ने भी अपनी छवि आलराउंडर में अच्छा प्रदर्शन कर बनाई थी. आईपीएल के कारण ही अक्षर पटेल को टीम इंडिया में शामिल किया गया. लेकिन लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने से वो टीम से बाहर हो गए. अक्षर ने टीम इंडिया के लिए कुल मिलाकर 38 वनडे में 45 विकेट और 11 टी-20 मैच में 9 विकेट लिए हैं. वो सिर्फ गेंदबाजी की कारण टीम से आए थे. वो निचले क्रम पर बल्लेबाजी करना जानते थे. लेकिन लगातार अच्छा नहीं कर पाने से वो टीम से बाहर हो गए.

(3) ऋषि धवन

28 वर्षीय हिमाचल के इस आलराउंडर ने भी टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया. उन्होंने 3 वनडे और 1 टी-20 मैच खेला. लेकिन अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने से वो टीम इंडिया से बाहर हो गए. घरेलू क्रिकेट के उनकी गेंदबाज कमाल की रही. उन्होंने इस दौरान 26 की औसत से कुल 248 विकेट निकाले. लेकिन इंटरनेशनल स्तर पर वो इस प्रदर्शन को दोहराने में नाकाम रहे.

(2) इरफ़ान पठान

टीम इंडिया में कपिल देव के बाद इन्हें टीम इंडिया का दूसरा सर्वश्रेष्ठ आलराउंडर माना जा रहा था. लेकिन चोट के कारण वो टीम से अंदर-बाहर होते रहे. इरफ़ान ने टीम इंडिया के लिए कुल मिलाकर बतौर आलराउंडर सबसे अधिक 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी-20 मैच खेले. इस दौरान इरफ़ान ने टेस्ट में 100 विकेट, वनडे में 173 विकेट और टी-20 में 28 विकेट लिए. इरफ़ान एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं. जिन्होंने अपने आखिरी मैच में 5 विकेट लिए और मैन ऑफ द मैच भी बने. लेकिन सके बावजूद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया.

(1) स्टुअर्ट बिन्नी

टीम इंडिया के इस आलराउंडर के पास वनडे क्रिकेट का सबसे अच्छा गेंदबाजी प्रदर्शन (6 विकेट सिर्फ 4 रन देकर) दर्ज है. इस आलराउंडर को भी खूब मौके मिले. लेकिन इन्होने अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं किया. आज नतीजा यह है कि ये खिलाड़ी टीम इंडिया से बाहर है. इस आलराउंडर ने टीम इंडिया के लिए कुल मिलाकर 6 टेस्ट, 14 टी-20 और 3 टी-20 मैच भी खेले. फिर भी अपनी जगह टीम इंडिया में पक्की नहीं कर सकें. इस दौरान बिन्नी ने तीनों फॉर्मेट को मिलाकर कुल 24 विकेट ही ले पाए.

The post हार्दिक से पहले चयनकर्ता ने इन 4 आलराउंडर को टीम में लेना चाहते थे, नंबर 2 था सबका फेवरेट appeared first on GyanHiGyan.

Advertisement

Comments are closed.