सीधी आंच पर रोटी पकाने से शरीर को हो सकता है नुकसान, स्टडी में खुलासा – सीधी आंच पर रोटी पकाने से शरीर को हो सकता है नुकसान

0

[ad_1]

आमतौर पर ज्यादातर घरों में लोग तवे से सीधे गैस पर पोली या फुल्का भूनते हैं. लेकिन ऐसा करने से कई हानिकारक तत्व पैदा हो जाते हैं। इससे विभिन्न अंगों को नुकसान पहुंचने का भी खतरा होता है।

सीधे गैस पर भुनी पोली शरीर के लिए खतरनाक, अध्ययन में हुआ खुलासा

छवि क्रेडिट स्रोत: फ्रीपिक

नयी दिल्ली: मधुकोश (रोटी) लोगों के आहार का एक हिस्सा है। उत्तर भारत में लोग अपना भोजन पूरा नहीं करते हैं और बिना पोली खाए उनका पेट नहीं भरता है। कुछ क्षेत्रों में रोटी को चपाती भी कहा जाता है। इसलिए इसे इंग्लिश ब्रेड कहा जाता है। मधुकोश निर्माण एक सामान्य प्रक्रिया है (रोटी बनाने की प्रक्रिया) है आटे को तेल और पानी डालकर कुछ देर के लिए गूंद कर रख दिया जाता है। इसके बाद इसे पोलपाटा पर रोल किया जाता है और तवे पर एक तरफ से ग्रिल किया जाता है और फिर सीधे स्टोव पर सेंका जाता है (आग पर) मधुकोश या फूल बनता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई प्रक्रियाओं के बाद बनने वाला मधुकोश सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। खासतौर पर अगर इसे सीधी आंच या तवे पर भूना जाए तो यह सेहत के लिए हानिकारक होता है। यह बात भी एक स्टडी से सामने आई है।

यह जानकारी नए अध्ययन से मिली है

जर्नल ऑफ एनवायरनमेंटल साइंस एंड टेक्नोलॉजी में एक शोध प्रकाशित हुआ है। शोध के अनुसार, प्राकृतिक गैस ग्रिल और गैस स्टोव कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड और महीन कणों का उत्सर्जन करते हैं। ये सभी कण शरीर के लिए खतरनाक होते हैं। ये प्रदूषक सांस की समस्या, हृदय रोग और यहां तक ​​कि कैंसर का कारण बन सकते हैं। एक और अध्ययन जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन एंड कैंसर में भी प्रकाशित हुआ है। इसमें कहा गया है कि तेज आंच पर खाना पकाने पर कार्सिनोजेन्स बनते हैं। इसे शरीर के अलग-अलग हिस्सों के लिए भी उपयुक्त नहीं माना जाता है।

बेकिंग अच्छी नहीं होती, पुराने अध्ययन भी यही कहते हैं

खाद्य मानक ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के मुख्य वैज्ञानिक डॉ. पॉल ब्रेंट द्वारा 2011 में एक रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी। इस रिपोर्ट के मुताबिक, जब छत्ते को सीधी लपटों के संपर्क में लाया जाता है, तो यह एक्रिलामाइड नामक रसायन पैदा करता है। लेकिन विशेषज्ञ कहते हैं कि गेहूं के आटे में प्राकृतिक शर्करा और प्रोटीन भी होता है। आटे को बेलने और गैस पर भूनने से कार्सिनोजेनिक केमिकल बनते हैं। इसका सेवन सुरक्षित नहीं माना जाता है।

फिर क्या करे?

जानकारों का कहना है कि इस संबंध में अभी और अध्ययन किए जाने चाहिए। इसके बाद ही तस्वीर पूरी तरह साफ हो सकेगी। लेकिन पोली को तेज आंच पर बिल्कुल भी नहीं तलना चाहिए. इससे कार्बोनेशियस कण और जहरीले तत्व शरीर में प्रवेश कर जाते हैं।

[ad_2]

Leave A Reply

Your email address will not be published.