सप्तर्षि कथा: सप्तर्षि कौन हैं, जिन्हें वैदिक धर्म का संरक्षक माना जाता है?

0

Saptarshi Katha: Who are the Saptarishis, who are considered to be the protectors of Vedic religion?

सप्तर्षि कथा सनातन धर्म में प्राचीन काल से ही ऋषि-मुनियों को विशेष महत्व दिया गया है। राजाओं से लेकर आम जनता तक को शिक्षा-दीक्षा देने का काम ऋषि-मुनि ही करते थे। रात्रि के समय आकाश में दिखाई देने वाले तारे को सप्तर्षि कहते हैं। आइए जानते हैं कौन हैं ये सप्तर्षि। और वे कैसे उत्पन्न हुए?

प्राचीन काल में सात ऋषियों का एक समूह था जिन्हें सप्तर्षि कहा जाता था। वेदों में इन सात ऋषियों को वैदिक धर्म का संरक्षक माना गया है। इन ऋषियों के नाम से ही गोत्र के नाम भी ज्ञात होते हैं। ये ऋषि ही ब्रह्मांड में संतुलन बनाए रखने और मानव जाति को सही रास्ता दिखाने के लिए जिम्मेदार हैं। माना जाता है कि सप्तर्षि आज भी अपने काम में व्यस्त हैं।

सप्तर्षि की उत्पत्ति क्या थी?
सात ब्रह्मर्षि, देवर्षि, महर्षि, परमर्षि।

क्रमशः कण्डर्षिश्च, श्रुतर्षिश्च, राजर्षिश्च।

वेदों में वर्णित इस श्लोक में सात ऋषियों के नाम का उल्लेख है जो इस प्रकार हैं- वशिष्ठ, विश्वामित्र, कश्यप, भारद्वाज, अत्रि, जमदग्नि, गौतम, ऋषि। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार सप्तऋषि की उत्पत्ति भगवान ब्रह्मा के मन से हुई है। इसीलिए उन्हें ज्ञान, विज्ञान, धर्म-ज्योतिष और योग में सर्वोच्च माना जाता है।

ये ऋषि कौन थे?

ऋषि वशिष्ठ –
ऋषि वशिष्ठ राजा दशरथ के कुलगुरु थे। उन्हीं से राजा दशरथ के चारों पुत्रों- राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न को शिक्षा मिली। उनके कहने पर ही राजा दशरथ ने राक्षसों को मारने के लिए श्री राम और श्री लक्ष्मण को ऋषि विश्वामित्र के साथ आश्रम में भेजा था। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, कामधेनु गाय को लेकर वशिष्ठ और विश्वामित्र के बीच युद्ध हुआ था। जिसमें ऋषि वशिष्ठ विजयी हुए।

ऋषि विश्वामित्र –
विश्वामित्र एक ऋषि होने के साथ-साथ एक राजा भी थे। ऋषि विश्वामित्र ने ही गायत्री मंत्र की रचना की थी। ऋषि विश्वामित्र की तपस्या और मेनका द्वारा उनकी तपस्या भंग करने का प्रसंग बहुत प्रसिद्ध है। उन्होंने अपनी तपस्या के बल पर त्रिशंकु को शरीर सहित स्वर्ग के दर्शन कराये।

ऋषि कश्यप-
ऋषि कश्यप ब्रह्माजी के मानस पुत्र मरीचि के विद्वान पुत्र थे। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, ऋषि कश्यप के वंशजों ने सृष्टि के प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। ऋषि कश्यप की 17 पत्नियाँ थीं। माना जाता है कि सभी देवता उनकी अदिति नामक पत्नी से और राक्षस उनकी पत्नी दिति से उत्पन्न हुए थे। माना जाता है कि बाकी पत्नियों से भी विभिन्न प्राणियों की उत्पत्ति हुई।

ऋषि भारद्वाज –
सप्तर्षियों में भारद्वाज ऋषियों को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। भारद्वाज ने आयुर्वेद सहित अनेक ग्रंथों की रचना की। उनके पुत्र द्रोणाचार्य थे।

ऋषि अत्रि-
ऋषि अत्रि को ब्रह्मा के सतयुग के 10 पुत्रों में से एक माना जाता है। अनुसूया उनकी पत्नी थीं। हमारे देश में कृषि के विकास के लिए ऋषि अत्रि का योगदान सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। उन्हें प्राचीन भारत का एक महान वैज्ञानिक भी माना जाता है।

ऋषि जमदग्नि –
भगवान परशुराम ऋषि जमदग्नि के पुत्र थे। उनके आश्रम में मनोवांछित फल देने वाली एक गाय थी, जिसे कार्तवीर्य छीनकर अपने साथ ले गये। जब यह बात परशुरामजी को पता चली तो उन्होंने कार्तवीर्य को मार डाला और कामधेनु को वापस आश्रम ले आये।

ऋषि गौतम –
ऋषि गौतम की पत्नी अहिल्या थीं। उनके श्राप से अहल्या पत्थर में बदल गयी। भगवान श्री राम की कृपा से अहिल्या को अपना रूप पुनः प्राप्त हो गया। ऋषि गौतम अपनी तपस्या से माँ गंगा को ब्रह्मगिरि पर्वत पर ले आये।

Leave A Reply

Your email address will not be published.