सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

वीजा निलंबित: भारत ने ड्रैगन को अपनी ही भाषा में जवाब दिया क्योंकि चीन ने भारतीय छात्रों के करियर को खतरे में डालने के लिए कदम उठाए | | चीनी नागरिकों के लिए जारी किया गया पर्यटक वीजा भारत द्वारा निलंबित कर दिया गया है

0 6


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने 17 मार्च को कहा था कि भारत ने बीजिंग से इस मुद्दे पर सौहार्दपूर्ण रुख अपनाने का आग्रह किया है क्योंकि कड़े प्रतिबंध लगाने से हजारों भारतीय छात्रों का शैक्षणिक करियर खतरे में पड़ रहा है।

भारत (भारत(चीनी नागरिकों के लिए)चीनी नागरिक) पर्यटक वीजा जारी किया गया (प्रवासी वीज़ा) निलंबित किया गया। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने 20 अप्रैल को अपने सदस्य वाहकों को यह जानकारी दी। चीनी विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले करीब 22,000 भारतीय छात्रों की समस्याओं के लिए भारत चीन को जिम्मेदार ठहराता रहता है। आपको बता दें, ड्रेगन के सख्त नियंत्रण के कारण ये छात्र वहां जाकर पढ़ाई नहीं कर सकते हैं। चीन में कोविड-19 (2020)कोविड 19) महामारी के कारण इन छात्रों को पढ़ाई छोड़ कर भारत लौटना पड़ा। फिर वर्तमान ड्रैगन के लिए (चीन) भारत ने अपनी भाषा में जवाब दिया है। 20 अप्रैल को भारत पर जारी एक आदेश में IATA ने कहा कि चीनी नागरिकों को जारी किए गए पर्यटक वीजा अब मान्य नहीं हैं।

ड्रैगन की शरारत के बाद भारत का सख्त रुख

आदेश में कहा गया है कि निम्नलिखित यात्रियों को भारत में प्रवेश करने की अनुमति है, जिसमें भूटान, मालदीव और नेपाल के नागरिक, भारत द्वारा जारी निवास परमिट वाले पर्यटक, भारत द्वारा जारी वीजा या ई-वीजा वाले पर्यटक, भारतीय मूल के व्यक्ति शामिल हैं। (पीआईओ) कार्ड और राजनयिक पासपोर्ट, ओसीआई कार्ड या बुकलेट वाले यात्री। आईएटीए उन्होंने यह भी कहा कि दस साल की वैधता वाला पर्यटक वीजा अब वैध नहीं है। बता दें, ईएटीए 290 सदस्यों वाला एक वैश्विक एयरलाइन संगठन है।

भारत ने बीजिंग से इस मुद्दे पर सुलह का रुख अपनाने का आग्रह किया

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने 17 मार्च को कहा कि भारत (बीजिंग) हम आपसे इस संबंध में सौहार्दपूर्ण रवैया अपनाने का आग्रह करते हैं, क्योंकि निरंतर सख्त प्रतिबंध हजारों भारतीय छात्रों के शैक्षणिक करियर को खतरे में डाल रहे हैं। बागची ने आगे कहा कि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 8 फरवरी को कहा था कि चीन इस मामले को समन्वित तरीके से देख रहा है और विदेशी छात्रों को चीन लौटने की अनुमति देने की व्यवस्था की जा रही है।

यह भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन शांति समझौता हुआ तो मैं पुतिन से मिलने को तैयार: ज़ेलेंस्की

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.