सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

विटामिन डी की कमी से खोखली हो सकती हैं हड्डियां, इसे नजरअंदाज करने से बढ़ेगी यह बीमारी

0 1

Bones can become hollow due to deficiency of Vitamin D, ignoring it will increase this disease.
Related Posts

बवासीर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इस तरह करें केले का सेवन

विटामिन डी की कमी के लक्षण: शरीर में विटामिन डी की कमी को नजरअंदाज करना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। विटामिन डी कम होने पर कई बीमारियां एक साथ शरीर पर हमला बोल देती हैं। तो समय रहते पता लगाएं कि शरीर में विटामिन डी कम हो रहा है या नहीं।

विटामिन डी की कमी के लक्षण: विटामिन डी हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सबसे जरूरी है। यह एक विटामिन है जो शरीर को अन्य पोषक तत्व पहुंचाने में मदद करता है। विटामिन डी की कमी से इम्यून सिस्टम कमजोर होने लगता है. ऐसे में बीमारी शरीर पर तेजी से हमला करने लगती है। विटामिन डी की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। मांसपेशियां नरम होने लगती हैं, जोड़ों में दर्द, चिड़चिड़ापन, सुस्ती और कमजोरी महसूस होने लगती है। खासकर सर्दियों में शरीर में विटामिन डी बहुत कम हो जाता है। कई बच्चों को विटामिन डी की कमी का एहसास नहीं होता, जिससे स्थिति गंभीर हो जाती है। आइए जानें शरीर में विटामिन डी की कमी के लक्षण क्या हैं।

विटामिन डी की कमी के लक्षण

शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर व्यक्ति को मांसपेशियों में दर्द, कमजोरी और हड्डियों में दर्द की समस्या होने लगती है। लगातार थकान और कमजोरी महसूस होना।

वयस्कों में विटामिन डी की कमी से हड्डियां कमजोर हो सकती हैं, खासकर रीढ़ और पैरों की हड्डियां। इन्हें छूने से दर्द होता है

बुजुर्गों में विटामिन डी की कमी से मामूली चोटों से भी हड्डी टूटने का खतरा बढ़ जाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

शरीर में विटामिन डी की कमी होने से इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है, जिससे सर्दी, खांसी या अन्य कोई समस्या शरीर को जल्दी घेर लेती है। ऐसे लोग आसानी से संक्रमण का शिकार हो जाते हैं।

बच्चों में विटामिन डी की कमी के कारण मांसपेशियों में ऐंठन रिकेट्स का पहला लक्षण है। विटामिन डी की कमी से कैल्शियम की कमी हो जाती है जिससे पूरे शरीर में ऐंठन होने लगती है।

विटामिन डी की कमी से बच्चे की बैठने और रेंगने की क्षमता में देरी हो सकती है। साथ ही खोपड़ी की हड्डियों के बीच की जगह को बंद होने में भी समय लगता है।

बच्चों में विटामिन डी की कमी से हड्डियों का असामान्य विकास होता है। अक्सर रीढ़ की हड्डी टेढ़ी हो जाती है। यदि आपको टखनों या घुटनों में समस्या है तो चलने में कठिनाई होती है।

विटामिन डी की कमी से त्वचा संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। इसकी कमी से एक्जिमा और सोरायसिस हो सकता है। जिसके लक्षणों में त्वचा में खुजली, जलन, जलन और बड़े क्षेत्र पर लाल और गुलाबी दाने शामिल हैं। इसके अलावा विटामिन डी की कमी से त्वचा के रूखेपन की समस्या भी हो सकती है।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.