मुस्लिम अभिनेत्री से शादी करने वाले इस भारतीय ऑलराउंडर का करियर बदनामी के साथ हुआ खत्म

मनोज प्रभाकर भारतीय टीम के एकमात्र ऐसे आलराउंडर हैं जिन्होंने 1 नंबर से लेकर 11 वें नंबर पर बैटिंग की है। इसके अलावा मनोज प्रभाकर ऐसे एकमात्र खिलाड़ी रहे हैं, जो सलामी बल्लेबाजी करने के बाद बॉलिंग भी कर चुके हैं। मनोज प्रभाकर ने ये काम लगभग 50 मैचों में किया है। इतने प्रतिभावान खिलाड़ी को असमय ही संन्यास लेना पड़ा।

हालांकि उनके क्रिकेट जीवन में मैच फिक्सिंग का ग्रहण जो लगा उसने पूरी लाइफ ही चौपट कर दी। देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद महानगर में जन्में मनोज प्रभाकर की क्रिकेट की शुरुआत स्कूल-कॉलेज के बाद गाजियाबाद के मोहननगर में बने स्टेडियम में प्रैक्टिस करके हुई।

मोहन नगर में मोहन मीकिंस नाम औद्योगिक घराना मनोज प्रभाकर को प्रैक्टिस के दौरान भत्ता भी देता था। मनोज प्रभाकर ने काफी मेहनत करके खुद को निखारा और टीम इंडिया में पहुंचे। टीम इंडिया में उन्हें बंदूक की आखिरी गोली की तरह इस्तेमाल किया गया। जब चाहे उन्हें सलामी बल्लेबाजी करवा ली, जब चाहा तो उन्हें मिडिल आर्डर में भेज दिया और जब जरूरत पड़ी तो उन्हें लोअर आर्डर में भेज दिया।

इसके साथ उन्हें बॉलिंग तो करनी ही करनी थी। कभी कभी तो ऐसा होता था कि मैच के एक पारी में बैटिँग करके पहुंचे तो अगली पारी शुरू होते ही बॉलिंग भी करनी पड़ती थी। मनोज प्रभाकर ने दो शादियां कीं। पहली शादी डॉ. संध्या से की। उससे एक बेटा हुआ। उसके बाद उन्होंने दूसरी शादी तमिल एक्ट्रेस फरहीन से की, जिससे दो बेटे हैं। फरहीन मुस्लिम अभिनेत्री हैं जिनसे शादी करने के बाद प्रभाकर काफी चर्चा में रहे।

मनोज प्रभाकर ने संन्यास लेने के बाद कई टीमों को कोचिंग भी दी। मनोज प्रभाकर दिल्ली क्रिकेट टीम के बॉलिंग कोच, राजस्थान क्रिकेट टीम के कोच भी रहे। दिल्ली के कोच रहते हुए उन्होंने मैनेजमेंट और टीम की आलोचना मीडिया में खुलेआम कर दी। इसकी वजह से उन्हें कोच पद से हटा दिया गया था। इसके बाद वह अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के कोच बने।

1999 में मनोज प्रभाकर तहलका के मैच फिक्सिंग खुलासे मामले को लेकर सुर्खियों में आये और बाद में वह मैच फिक्सिंग में लिप्त पाये जाने की वजह से बीसीसीआई ने प्रतिबंध लगा दिये थे।

The post मुस्लिम अभिनेत्री से शादी करने वाले इस भारतीय ऑलराउंडर का करियर बदनामी के साथ हुआ खत्म appeared first on GyanHiGyan.

Comments are closed.