सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

माँ बाप करते है बेटी का एक साल का सौदा यहाँ जानिए पूरी खबर

0 342

आजादी के पहले भारत में प्रथा और परंपराओं के नाम पर न जानें कितनी ही कुरितियों को बढ़ावा दिया जाता था परंतु आजादी के बाद लोगो के विचारो में थोड़ा परिवर्तन आया| लोगो के अंदर सही गलत में फर्क करना आया| जिसका नतीजा यह हुआ की धीरे-धीरे देश में कुप्रथाओ के बादल छटने लगे| लेकिन आज भी कुछ ऐसी प्रथाओ को देखकर लगता हैं की हम आज भी वही खड़ें जहा 70 साल पहले थे| इस समय इतनी जागरूकता होने के बावजूद देश के कई जगहों पर कई कुरीतिया देखने को मिल जाती हैं| जहां देश मे ‘बेटी पड़ाओ बेटी बचाओ’ का नारा दिया जा रहा हैं, वही पर कई जगह आज भी बेटियो को बेचा जा रहा हैं|

जी हाँ आज हम बात कर रहें मध्य प्रदेश के शिवपुरी इलाके में सालों से चली आ रही‘धड़ीचा प्रथा’की। इस प्रथा में पुरुष अपने मन-पसंद लड़की को 1 साल के लिए अपने घर ले जाते हैं| एक तरह से देखा जाए तो लोग अपने बेटी को एक साल के लिए बेच देते हैं| आपको यह जानकार हैरानी होगी लड़की के घर वाले अपने बेटी को देने के बदले, सामने वाले से अच्छा खासा रकम तक वसूलते हैं|

यहाँ के लोग हर साल अपनी बेटियो का सौदा करते हैं, दिलचस्प बात ये भी हैं की इसको बाकायदे रजिस्टर मे नोट किया जाता हैं| लड़के को लड़की पसंद आ गयी तो वह ज्यादा कीमत देकर लड़की को एक साल से अधिक समय तक रख सकता हैं| बशर्ते लड़की को उस एक साल या उससे ज्यादे समय तक उस आदमी की पत्नी बनकर रहना पड़ता है| यदि वे समय रहते ही शादी करने का फैसला कर लेते हैं तो समय रहते ही उनकी शादी तय कर दी जाती हैं |

सोचने वाली बात यह हैं की इस कुप्रथा के खिलाफ आज तक किसी ने भी आवाज नहीं उठाई| ना ही किसी शख्स ने और ना ही किसी परिवार ने किसी के खिलाफ कोई रिपोर्ट दर्ज करवाई हैं| इस घटना से लगता हैं की आज भी हमारा भारत कितना पीछे हैं| हमे इस बात पर गौर करना चाहिए की लडकीया भी इंसान हैं उनकी भी कुछ इच्छाए होती हैं| ऐसे ही नहीं किसी के हाथो उन्हे बेच देना चाहिए| इस ‘धड़ीचा प्रथा’ के खिलाफ लोगो को आवाज उठानी चाहिए तथा इसका विरोध करना चाहिए|

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.