सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

भुट्टा खाने के फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप, आज ही जानिए

16

भुट्टे को कॉर्न यानी मक्का भी कहा जाता हैं। यह दिल के मरीज़ो के लिए बहुत अच्छा माना जाता हैं। इसका साबुत अनाज के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता हैं इसके अलावा मक्का से आटा भी बनाया जाता हैं। मक्का में भरपूर मात्रा में विटामिन्स, फाइबर, कैरोटिनॉयड्स और फेरूलिक एसिड्स होता हैं जो आंखो की समस्या।

Related Posts

मक्खन का सेवन करने से आते हैं शरीर में ये बदलाव…ये है सही तरीका

दिल के रोग और कैंसर जैसी बड़ी बीमारियों को दूर है।

  1. शरीर में आयरन की कमी होने से एनीमिया रोग हो जाता हैं। भुट्टे में आयरन, विटामिन B और फोलिक एसिड होता है जिससे एनीमिया दूर होता है।
  2. मकई में जेएक्सेंथिन नाम के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। जिसके कारण इसका रंग पीला होता हैं। इससे उम्र बढ़ने के साथ आँखों में होने वाली समस्याओं जैसे की मोतियाबिंद, आँखों का दर्द करना, आँखों से पानी गिरना आदि से छुटकारा मिलता हैं। भुट्टे के सेवन से आँखों की रोशनी बढ़ाता है।
  3. मक्का थायमिन का भी एक प्रमुख स्त्रोत है और उसमे उपस्तिथ न्यूट्रीएंट्स दिमाग के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। थायमिन की कमी से दिमाग में होने वाली कई क्रियाएं बाधित होती हैं जिसके फलस्वरूप कई तरह की दिमाग सम्बंधित बिमारी होने के ख़तरा होता है। इसके अलावा भुट्टे के सेवन से याददाश्त भी अच्छी हो जाती हैं। मक्के को खा कर आप अल्जाइमर जैसी भूलने की बीमारी से भी बचे रहते हैं।
  4. मकई दिल के रोगों को ख़त्म करने में भी मददगार होता हैं। क्योंकि इसमें विटामिन सी, कैरोटीनोइड और बीओफ्लैवोनॉइड पाए जाते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढ़ने नहीं देते हैं और शरीर में खून का प्रवाह भी बढ़ता हैं। शोध में ये पाया गया है की मक्के के तेल के सेवन से धमनियों में जमा कोलेस्ट्रोल दूर होता है।
  5. भुट्टे को थोड़ी सी मात्रा में खाने से ही पेट भर जाता हैं। साथ ही इससे पुरे दिन के लिए जरूरी पोषण भी प्राप्त हो जाते हैं। जिससे आपको बार-बार भूख नहीं लगती हैं। इसलिए यह वज़न को कम करने में आपकी सहायता कर सकता हैं। इसका सूप बना कर पीना भी काफी फायदेमंद होता हैं।

Advertisement

Comments are closed.