सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

बृहस्पति का रत्न है पुखराज, जानिए इसे पहनते समय किन बातों का रखें ध्यान…

117
गुरु से संबंधित शुभ फल प्राप्त करने के लिए पुखराज पहना जाता है। इन रत्नों को अंगूठी या लॉकेट की तरह पहना जाता है। पुखराज वैसे तो कई रंगों में आता है लेकिन मुख्य पुखराज पलाश के फूल जैसा होता है। जानिए इस रत्न की विशेषता और महत्व के बारे में:-

पुखराज किसे पहनना चाहिए?

यह रत्न बृहस्पति ग्रह से संबंधित है। बृहस्पति की दो राशियाँ धनु और मीन हैं। जिनकी कुंडली में बृहस्पति अशुभ फल दे रहा है उन्हें पुखराज धारण करने की सलाह दी जाती है। बिना ज्योतिषीय सलाह के इसे पहनने से कई तरह की परेशानी हो सकती है।

ध्यान रखने योग्य बातें

Related Posts

वर्कआउट से पहले रोज़ खाएं खाली पेट ये 5 फल, नहीं बढ़ेगा वजन

1. पुखराज के साथ पन्ना, नीलम, हीरा, गोमेद और लहसुन नहीं पहनना चाहिए अन्यथा लाभ के स्थान पर हानि होती है।

2. वृष, मिथुन, कन्या, तुला, मकर और कुंभ राशि वालों को पुखराज नहीं पहनना चाहिए।

3. सही ज्योतिषी से पूछें और वही रत्न धारण करें। जरूरत से ज्यादा कैरेट पहनने से नुकसान होगा और कम कैरेट पहनने से कोई फायदा नहीं होगा।

पुखराज कैसे पहनें

बुधवार की सुबह स्नान और ध्यान करने के बाद पुखराज को दूध के साथ गंगाजल में डालें। फिर गुरुवार को स्नान व ध्यान कर अगले दिन बृहस्पति नमः की कम से कम एक माला का जाप करके अंगुली में धारण कर लें।

Advertisement

Comments are closed.