सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

बकरी की किस बात को सुनकर शेर का ह्रदय नरम हो गया था, समझदार बकरी की मजेदार कहानी जरूर पढ़ें

449

एक बकरी थी वह एक गांव में रहती थी उस बकरे को एक गरीब घर वाले पाला करते थे और बकरी भी अच्छे से रहने लगी थी आप घरवाले उसे बहुत ज्यादा प्यार करते थे और घरवाले उस बकरे को प्रतिदिन खाना खाने के लिए देते थे और उस बकरे को घर वाले बहुत ज्यादा प्यार करते थे और उस गांव के बगल में एक जंगल था जिसमें उस बकरी को उस घर वाले जंगल में चराने के लिए लेकर जाते थे जिसके कारण बकरी और भी ज्यादा खुश रहती थी इसी तरह करते करते उस गांव में बकरी का दिन इसी तरह से आराम से गुजरने लगा 1 दिन बकरी घर में अकेली पड़ गई और जंगल में घूमने के लिए निकल पड़ी और जंगल में घुस गई और बकरी को घर जाने का रास्ता नहीं मिल रहा था और वह घबरा रही थी और यह सोच कर डर रही थी कि कहीं जंगल में मुझे शेर तो नहीं खा जाएगा।

इस तरह की सोच बकरी को अंदर ही अंदर खाए जा रही थी। और बकरी इसी तरह चलते चलते जंगल की भीतर फस गई फिर उसे कुछ आवाज सुनाई दी और वह डर के मारे कांपने लगी उसके कुछ देर बाद उसे एक हिरण दिखा हिरण को देखकर बकरी सोचने लगी यह तो मेरे जैसे ही लग रही है भला यह कौन है। इस तरह से बकरी सोचने लगी हिरण के पास जाने की कोशिश कर रही थी उसके बाद हिरण तेजी से दौड़ कर वहां से चली गई फिर बकरी वहीं पर बैठ जाती है और सो जाते हैं तभी बकरी को एक डरावनी आवाज सुनाई देती है और वह इधर-उधर देखने लगती है। इधर-उधर देखने के बाद बकरी ने एक शेर को आते हुए देखा और बकरी बहुत ही ज्यादा डर गई और झाड़ी में छुप गई। तभी शेर बकरी को देखा और खाने के लिए बकरी के पास आ गया उसके बाद फिर वहीं पर खड़े होकर बकरी को देखने लगा और बोला क्या तुम्हें मेरे से डर नहीं लगता फिर बकरी सोच विचार से काम लेती है और बोलती है मैंने तुमसे क्या डरना तुमको भी तो भगवान ने बनाया है और मुझे भी भगवान ने बनाया है फर्क बस इतना है तुम मेरे से बडे हो और मैं छोटी हूं।

बकरी की इस बात को सुनकर शेर का ह्रदय नरम हो गया आज शेर और बकरी की दोस्ती हो गई।

Advertisement

Comments are closed.