सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

प्रमुखस्वामी महाराज नगर में आगंतुकों के स्वागत के लिए आसमान में गुब्बारे उड़ाए गए

0 4


जैसा कि प्रमुख स्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव मनाया जा रहा है, 200 एकड़ में निर्मित प्रेरणा का प्रमुख स्वामीनगर महोत्सव प्रेरणा का प्रतीक है। कई प्रेरक उद्धरण हैं जो खोए हुए या उदास लोगों की मदद कर सकते हैं। जीवन में भटके हुए लोगों की प्रतीक्षा करने के साथ-साथ इस बात का भी विशेष ध्यान रखा गया है कि कस्बे में खोये हुए श्रद्धालु या दर्शनार्थी भूले न जायें। इस कारण शहर के किसी भी कोने में खड़े व्यक्ति को आसानी से प्रवेश द्वार मिल सके इसके लिए प्रत्येक प्रवेश द्वार पर प्रवेश द्वार की संख्या वाले गुब्बारे आसमान में रिश्ते को कायम रखते हुए लगाए गए हैं। साथ ही साथ आकाश में, जमीन पर बोर्ड भी लगाए जाते हैं जो व्यक्ति को प्रवेश संख्या का संकेत देते हैं।

अहमदाबाद के प्रांगण में लगातार एक माह तक चलने वाले प्रमुखस्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव का आयोजन 600 एकड़ भूमि में हो रहा है. इसमें से 200 एकड़ में प्रमुचस्वामी महाराज नगर बनाया गया है। यूं तो शहर में सात प्रवेश द्वार हैं, लेकिन मुख्य प्रवेश द्वार सिर्फ वीवीआईपी के लिए है। ओ के लिए है जबकि भादज से आने वाले श्रद्धालुओं व दर्शनार्थियों को प्रवेश द्वार संख्या 2, 3 व 4 से कस्बे में प्रवेश करना पड़ता है। जबकि अगनाज से आने वाले व्यक्तियों के लिए प्रवेश द्वार संख्या 5, 6 व 7 बनाए गए हैं।

एक बड़े मंच पर आयोजित होने वाले इस उत्सव में स्थान भी बड़ा होता है, ऐसे में ऐसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है कि व्यक्ति उस स्थान को भूल जाए जहां से वह प्रवेश करता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए इस स्थिति को रोकने के लिए प्रवेश द्वार की संख्या दर्शाने वाला एक गुब्बारा डोरी के संपर्क में रखते हुए उन्हें प्रतीक्षा कराने के लिए आकाश में उड़ाया गया है, जिससे वे जिस प्रवेश द्वार से प्रवेश कर रहे हैं, उस पर गिर पड़े। भी याद किया जाता है, तब भी वह व्यक्ति यदि नगर के किसी भी कोने में खड़ा हो, तो उसे अपने प्रवेश की दिशा का अंदाजा हो सकता है क्योंकि प्रवेश क्रमांक वाले गुब्बारों को आकाश में डोरी से स्पर्श करके रखा जाता है। इस प्रकार, बीएपीएस ने शहर के आगंतुकों और भक्तों का स्वागत करने की दोहरी भूमिका निभाई है।

कृपया हमें फॉलो और लाइक करें:



Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.