पितृ पक्ष के दौरान भूलकर भी गर्भवती महिलाएं न करें ये 5 काम, शिशु को हो सकती है परेशानी

0 375

Shradh 2019 : हिंदू धर्म में पुराणों से लेकर उपनिषदों तक में गर्भधारण से लेकर मृत्योपरांत तक कई तरह के संस्कारों का उल्लेख किया गया है और इन्हीं संस्कारों में से एक संस्कार है पितृ पक्ष। इस साल पितृ पक्ष की शुरुआत 13 सितंबर से हो गई है और इस दौरान व्यक्ति अपने पितरों को तर्पण देने के साथ उनका श्राद्ध भी करता है। यहां श्राद्ध के दौरान गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ खास नियम बताएं गए हैं और जिनका पालन न करने पर उसके शिशु पर बुरा असर पड़ सकता है।

एमपी नेशनल हेल्थ मिशन ने दी टेक्निकल -पैरामेडिकल पर बम्पर भर्ती – जल्दी करें 

मेट्रो में विभिन्न विभिन्न पदों पर नौकरी करने का सुनहरा अवसर –  सैलरी Rs.41800- 132300 (Per Month)

दसवीं पास वालों के लिए CISF कांस्टेबल और ट्रेडमैन में आई बम्पर भर्ती – देखें पूरी जानकारी

दरअसल, माना जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान पितरों के साथ बुरी आत्माएं भी धरती पर आ जाती हैं और जिनका गलत असर गर्भवती स्त्री के होने वाले शिशु पर पड़ सकता है। तो आइए जानते हैं आखिर क्या हैं वो 5 बातें जिन्हें श्राद्ध के दौरान भूलकर भी गर्भवती स्त्रियों को नहीं करना चाहिए।

श्राद्ध में भूलकर भी गर्भवती स्त्रियां न करें ये काम-

1- पितृ पक्ष पर गर्भवती महिलाएं किसी एकांत जगह या जंगल की ओर भूलकर भी ना जाएं और माना जाता है कि ऐसी जगहों पर नकारात्मक शक्तियों का वास रहता है, जो गर्भवती महिला और उसके शिशु की सेहत पर बुरा असर डाल सकता है।

2-पितृ पक्ष के दौरान गर्भवती महिलाओं के शमशान घाट के पास जाने की भी मनाही होती है और माना जाता है कि इस समय पितरों के साथ वहां कई बुरी आत्माएं भी मौजूद होती हैं। जो गर्भ में पल रहे शिशु और माता पर अपना बुरा प्रभाव डाल सकती हैं।

3-यूं तो कभी भी किसी को किसी बड़े बुजुर्ग का दिल नहीं दुखाना चाहिए। लेकिन पितृ पक्ष के दौरान और खासकर गर्भवती महिलाओं को इस बात का ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि वो भूलकर भी किसी बुजुर्ग व्यक्ति का मन न दुखाएं, ऐसा करने से आपके पितर आपसे नाराज होकर आपको दंडित भी कर सकते हैं।

4-पितृ पक्ष के दौरान किसी भी गर्मवती महिला को मांस का सेवन नहीं करना चाहिए और ऐसा करने उनके पितरों का दुख पहुंचता है और सभी बुरी शक्तियां आपके ऊपर अपना असर डालने लगती हैं।

5-पितृ पक्ष के दौरान गर्भवती महिलाओं को श्रृंगार करके या इत्र लगाकर नहीं रखना चाहिए और ऐसा करने से उनके होने वाले शिशु को परेशानी हो सकती है।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.