सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

नेपाल विमान हादसा: नेपाल विमान हादसे में मारे गए चारों भारतीयों के शव अब तक नहीं मिले, कई दिनों से परिजन कर रहे इंतजार

0 5


यति एयरलाइंस की फ्लाइट 9N-ANC ATR-72 ने काठमांडू के त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट से बीते दिन सुबह 10 बजकर 33 मिनट पर उड़ान भरी थी. यह त्रासदी कम समय में हुई। विमान में सवार सभी 72 लोगों की मौत हो गई थी।

नेपाल विमान दुर्घटना (फाइल)

नेपाल विमान हादसे में मारे गए चारों भारतीयों के शव शनिवार तक उनके परिजनों को नहीं सौंपे गए। यहां मारे गए चार भारतीयों के परिजन पिछले तीन दिनों से शवों का इंतजार कर रहे हैं। यति एयरलाइंस का एक विमान पोखरा शहर में उतरने से कुछ मिनट पहले एक नदी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे उसमें सवार सभी 72 लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने मंगलवार को मारे गए लोगों के शवों को उनके परिवारों को सौंपना शुरू किया। अंतरराष्ट्रीय समाचार यहां पढ़ें।

दुर्घटनाग्रस्त विमान में 53 नेपाली यात्री और पांच भारतीय और चालक दल के चार सदस्यों सहित 15 विदेशी नागरिक सवार थे। मारे गए पांच भारतीय उत्तर प्रदेश के निवासी बताए जा रहे हैं और उनकी पहचान अभिषेक कुशवाहा (25), विशाल शर्मा (22), अनिल कुमार राजभर (27), सोनू जायसवाल (35) और संजय जायसवाल के रूप में हुई है।

शुक्रवार को 49 शवों का पोस्टमॉर्टम हुआ

संजय जायसवाल का शव शुक्रवार को उनके परिवार को सौंप दिया गया, जो इसे वापस घर ले गए। हालांकि चार अन्य भारतीय नागरिकों के परिजन तीन दिन से अपनों के शव मिलने का इंतजार कर रहे हैं। सोनू जायसवाल के पिता राजेंद्र प्रसाद जायसवाल शव लेने के लिए त्रिभुवन विश्वविद्यालय शिक्षण अस्पताल में इंतजार कर रहे रिश्तेदारों में शामिल थे। अस्पताल सूत्रों ने बताया कि शनिवार को विशाल शर्मा के शव की शिनाख्त हुई। अस्पताल ने शुक्रवार को 49 शवों का पोस्टमॉर्टम किया। पोखरा में 22 नेपाली नागरिकों के शव उनके परिजनों को सौंप दिए गए हैं।

ये बड़े विमान हादसे पिछले 10 सालों में हुए हैं

पिछले साल 29 मई को तारा एयर का एक विमान पर्वतीय मस्टैंग जिले में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें एक भारतीय परिवार के चार सदस्यों सहित सभी 22 लोगों की मौत हो गई थी। वर्ष 2016 में इसी मार्ग पर इसी एयरलाइन का एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें सवार सभी 23 लोगों की मौत हो गई थी। मार्च 2018 में त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक विमान दुर्घटना में 51 लोगों की मौत हो गई थी।

(इनपुट-अनुवाद)

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.