सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

नाथूराम गोडसे ने गांधीजी को आखिर क्यों मारा, यह थी असली वजह

643

महात्मा गांधी की हत्या से पूरा देश सदमे में रह गया क्योंकि अहिंसा का एक प्रतीक बंदूक की गोली से मारा गया था। नाथूराम गोडसे नाम के एक भारतीय ने महात्मा गांधी की हत्या की थी। हालांकि उन दिनों की रिपोर्ट में कहा गया था कि नाथूराम गोडसे मानसिक रूप से बीमार था, जोकि सच्चाई नही थी।

इसके इलावा, कुछ लोग सोचते हैं कि गोडसे अंदर से थोड़ा उदास था या किसी और ने गांधी को अपने हितों के लिए मरवाया था।

महात्मा गांधी की मृत्यु का कारण

नाथूराम गोडसे को लगने लगा कि महात्मा गांधी हिंदुओं के प्रति आंशिक हैं और वे मुसलमानों के बारे में अधिक सोचते हैं। हो सकता है कि वह इस तरह से सोचने लगा हो, क्योंकि वह एक ऐसे संगठन में काम करता था जहाँ विभिन्न मानसिकता के लोग आते थे। उनमें से कोई गाँधी से घृणा करने वाला व्यक्ति हो सकता था, जिसने गोडसे का ब्रेनवाश किया हो। नाथूराम को लगता था कि गांधी जी भारत के विभाजन के पीछे कारण हैं और अब वे हिंदुओं की तुलना में मुसलमानों का समर्थन करते हैं। उन्होंने महात्मा गांधी द्वारा नीतियों से घृणा करना शुरू कर दिया और उनकी नफरत सिर्फ उनके लिए नहीं बल्कि जवाहर लाल नेहरू के लिए भी थी।

वह मरने से नहीं डरता था

नाथूराम जानता था कि महात्मा गांधी को मारने के ठीक बाद उसे भी मार दिया जाएगा। यही कारण है कि वह मरने के लिए तैयार था और आगे आने के लिए खुद को तैयार रखा। वह जानता था कि या तो उसे कानूनन फांसी दी जाएगी या पुलिस उसे गोली मार देगी।

उसने सारी जांच की

नाथूराम गोडसे अपने आसपास के परिदृश्यों का विश्लेषण करने के लिए गांधी जी के सार्वजनिक कार्यक्रमों में आते थे। हालांकि वह एक पेशेवर हत्यारा नहीं था, लेकिन उसने बहुत ही स्मार्ट तरीके से काम किया। उसने गांधी जी के आस-पास की सुरक्षा के बारे में पहले से ही पता लगा लिया था।

उसने अपने घर में जेल जाने का अभ्यास किया

जेल की चुनौतियों के लिए खुद को तैयार करने के लिए, नाथूराम गोडसे ने अपने घर को जेल में बदल दिया और एक साल तक वहाँ रहा। उसने पूरे दिन सभी खिड़कियां और दरवाजे बंद रखे और वहां कोई पानी, हवा नही थी और बहुत सीमित भोजन था।

उसने सारा पेपर वर्क किया

जब पुलिस ने नाथूराम के घर पर जांच की, तो उन्हें पता चला कि महात्मा गांधी की हत्या के लिए खुद को तैयार करने के लिए उन्होंने सारे कागजी काम किए।

उसने हथियार पर भी काफी रिसर्च किया

नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या के लिए हथियार पर भी बहुत अच्छी तरह से रिसर्च किया। क्योंकि उसे इसके बारे में पता था कि उसके पास केवल एक ही मौका है। इतना ही नहीं, उन्होंने शूटिंग की भी तैयारी की क्योंकि उसे पता था कि इससे उन्हें काफी हिम्मत मिलेगी।

Advertisement

Comments are closed.