दूसरों को वश में कैसे करें..? इन चाणक्य रणनीतियों का करें पालन

0

How to control others..? Follow these Chanakya strategies

अगर आप दूसरे लोगों से बात करें तो आप पल भर में जान सकते हैं कि वे किस तरह के लोग हैं। हमें व्यक्ति के स्वभाव के अनुसार ही बोलना चाहिए। हर किसी को एक ही तरह से प्रभावित नहीं किया जा सकता. दूसरों के साथ कुछ भी साझा करने से पहले हमें पूरी जानकारी होनी चाहिए। हम कितना भी कहें..कुछ लोग दूसरों की बातों पर ध्यान नहीं देते जैसे कि उन्होंने जो खरगोश पकड़ा है उसके केवल तीन पैर हैं। अगर हमें ऐसे लोगों का नजरिया बदलना है

लालची लोगों के साथ..

कहते हैं काँटे से काँटा चुनना। लालची व्यक्ति को कोई भी आशा दी जाती है। वे शब्दों का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करते। इसका मतलब है कि वे आपकी बात तभी मानेंगे जब आप उन्हें वह देंगे जो वे चाहते हैं, कोई पैसा नहीं।

कम बुद्धि के साथ..

अगर आप कम बुद्धि वाले लोगों को अपनी बात समझाना चाहते हैं.. तो आपको उनकी मानसिकता के अनुसार काम करना होगा। यदि आप कुछ ऐसा करते हैं जो उन्हें पसंद है, तो इससे उन्हें ख़ुशी होगी। तभी आपको खुद पर भरोसा होगा. फिर जैसा कहा जाएगा वैसा ही करोगे.

ऐसे स्मार्ट लोगों के साथ..

होशियार लोगों से सावधान रहें. आपको उनसे सोच समझकर बात करनी चाहिए. आप समझदारी से जो कहेंगे, वे मान लेंगे। ज्यादा होशियारी मत दिखाओ.. बस उन्हें सच बता दो। अगर आपको भी हर चीज के बारे में पता नहीं है.. तो वे किसी भी हालत में आपकी बात नहीं सुनेंगे। आपको भी हेय दृष्टि से देखा जाएगा.

गर्व के साथ..

अहंकारी लोगों को समझाने से पहले आपको अपना अहंकार एक तरफ रखना होगा। उन्हें अपने वश में करने के लिए..आपको उनका सम्मान करना होगा. उनको प्रणाम करो और उनकी कुछ प्रशंसा करो। उन पर तारीफों की बौछार करें। चाणक्य नीति कहती है कि अगर आप ऐसा करेंगे तो वे बिना जाने आपकी बातों के गुलाम बन जाएंगे। अहंकारी आमतौर पर किसी की नहीं सुनते। उन्हें लगता है कि उन्होंने जो रास्ता चुना है वह सही है। इसलिए आप उन्हें उतना ही महत्व देकर अपने मामलों को ठीक कर सकते हैं जितना आप उन्हें देते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.