सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

तालिबान के विदेश मंत्री मुत्तकी का दावा है कि अफगानिस्तान में ISIS की हिंसक गतिविधियों को रोक दिया गया है, कोई हमला नहीं हुआ है | तालिबान के विदेश मंत्री मुत्तकी का दावा है कि अफगानिस्तान में ISIS की हिंसक गतिविधियों को रोक दिया गया है और कोई हमला नहीं हुआ है

0 12


Related Posts

ब्रिटेन में छिपा असमिया डॉक्टर, भारत में आतंकवाद फैलाने का आरोप, भारत…

तालिबान ने सोमवार को दावा किया कि उसने अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) की हिंसा को रोक दिया है। टोलो न्यूज के मुताबिक तालिबान के कार्यवाहक विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी ने चीनी मीडिया से बात करते हुए यह दावा किया।

तालिबान के विदेश मंत्री

तालिबान को (तालिबानसोमवार को दावा किया कि वह अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट में शामिल हो गया है।आईएसआईएस) ने अपनी हिंसक गतिविधियों को रोक दिया है। टोलो न्यूज के मुताबिक, तालिबान के कार्यवाहक विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी ने चीनी मीडिया से बात की।आमिर खान मुत्तक़ी) दावा किया कि, हाल के महीनों में, ISIS देश में कोई भी हमला नहीं कर पाया है। उन्होंने यह भी कहा कि अफगानिस्तान की भूमि किसी अन्य देश के लिए खतरा नहीं होगी।

पिछले चार महीनों में ISIS का कोई ऑपरेशन नहीं हुआ है। हम कह सकते हैं कि अफगानिस्तान अभी एक सुरक्षित देश है और हम दुनिया से किए गए वादों के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम ठान चुके हैं कि अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी देश के खिलाफ नहीं किया जाएगा। माना जाता है कि चीन के मौजूदा अफगान सरकार के साथ अच्छे संबंध हैं। इसके पीछे एक कारण यह भी है कि तालिबान राजनयिकों को चीनी सरकार ने स्वीकार कर लिया है। हालांकि, बीजिंग ने अभी तक तालिबान को औपचारिक रूप से मान्यता नहीं दी है।

विदेश मंत्री ने चीन की यात्रा का स्वागत किया

मुत्तकी ने अपनी हाल की चीन यात्रा को सकारात्मक बताया। मार्च के अंत में, कार्यवाहक मंत्री मुत्ताकी के नेतृत्व में तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल ने चीन का दौरा किया, जहां उन्होंने विदेशों में शीर्ष राजनयिकों और राजदूतों के साथ कई दौर की बातचीत की। टोलो न्यूज ने बताया कि बैठक सकारात्मक रही। हमें उम्मीद है कि इस तरह की बैठकों से अच्छे नतीजे आएंगे और अफगान लोग खुशखबरी सुनेंगे।

उन्होंने निवेश की सुविधा के लिए आर्थिक नीति की मांग को भी दोहराया

टोलो न्यूज ने बताया कि उन्होंने अफगानिस्तान में निवेश की सुविधा के लिए तालिबान की आर्थिक नीति की मांग को भी दोहराया। राजनीतिक विश्लेषक जावेद संगदिल ने कहा कि बड़ी आर्थिक परियोजनाओं में अफगानिस्तान की उपस्थिति तब तक संभव नहीं होगी जब तक अफगानिस्तान में बड़ी समस्याओं का समाधान नहीं हो जाता।

यह भी पढ़ें: GPAT एडमिट कार्ड 2022: ग्रेजुएट फार्मेसी एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए एडमिट कार्ड जारी यहां डाउनलोड करें

यह भी पढ़ें: CLAT Exam 2022: जून में होगी CLAT परीक्षा, यहां चेक करें परीक्षा पैटर्न और सिलेबस

अधिक समाचार पढ़ने के लिए हमारे ट्विटर समुदाय में शामिल होने के लिए यहां क्लिक करें-



Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.