सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

ज्ञान : शीत प्रदेश के मृग घेरे में क्यों नाचते हुए दिखाई देते हैं, यह उनकी प्रसन्नता का प्रतीक नहीं है, कारण जानिए | हिरन क्यों घेरे में दौड़ते हैं और चक्रवात जैसी संरचना बनाते हैं, जानिए इसके पीछे का कारण

0 4


Related Posts

सीमा पर चीन का नया कदम, अरुणाचल में भारतीय सीमा के पास ड्रैगन तेजी से…

हिरन हलकों में क्यों दौड़ते हैं

रेनडियर मंडलियों में क्यों दौड़ते हैं: क्रिसमस कैलेंडर और पोस्टर पर देखा जाने वाला रेनडियर कुछ स्थितियों में चक्रवात जैसी संरचना बनाता है। यह उनके गुणों में गिना जाता है। पता करें कि वे ऐसा क्यों करते हैं।

जे क्रिसमस (क्रिसमस) आप कैलेंडर और पोस्टरों में पाए जाने वाले ठंडे खून वाले हिरण को देखें (हिरन) तुम्हें पता होना चाहिए। जो दिखने में हिरण की तरह होते हैं, लेकिन हिरण से अलग होते हैं। उनमें अनेक गुण हैं। उदाहरण के लिए, वे नाक के माध्यम से शरीर के तापमान को नियंत्रित करते हैं। इनकी सूंघने की क्षमता बहुत तेज होती है। जिससे वे लंबी दूरी तक आसानी से अपना भोजन ढूंढ़ सकते हैं। उनमें एक और गुण है। यानी चक्रवात (चक्रवात) निर्माण के लिए। वे विशेष परिस्थितियों में ऐसा करते हैं। यह उनके गुणों में गिना जाता है। वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि वे ऐसा क्यों करते हैं।

ठंडे क्षेत्र के हिरण ऐसा क्यों करते हैं? जानिए क्या है इसके पीछे का विज्ञान और कैसे यह दूसरे हिरणों से अलग है

यही चक्रवात बनाता है

लाइव साइंस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, शिकारी जब भी हिरन का शिकार करने आते हैं तो खुद को बचा लेते हैं। उनके पास ऐसे गुण हैं जो उनके जीवन के लिए जोखिम को कम करने का काम करते हैं। जैसे ही वे शिकार को समझते हैं, ठंडे क्षेत्र के सभी हिरण एक चक्र बनाने लगते हैं। यह एक बोरी की तरह दिखता है जो एक ड्रॉस्ट्रिंग से घिरा होता है।

चक्रवात के निर्माण के दौरान, हिरण इतनी तेजी से आगे बढ़ते हैं कि शिकारी के लिए किसी एक हिरण को निशाना बनाना मुश्किल हो जाता है।

इसकी वजह आप इस ट्वीट से समझ सकते हैं

हाल ही में एक ठंडे दिमाग वाले हिरण का ऐसा करते हुए एक वीडियो भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक हिरन का यह गुण उन्हें शिकारियों से बचाने का काम करता है।

वे हिरण से कितने भिन्न हैं?

हालांकि ये दिखने में हिरण जैसे लगते हैं, लेकिन कई मायनों में ये इनसे अलग हैं। उदाहरण के लिए, नर और मादा दोनों के सींग लंबे और घुमावदार होते हैं, जबकि हिरणों में वे सीधे होते हैं। बारहसिंगा करीब 5 हजार किलोमीटर तक घूमता है। इनके पैर घुमावदार होते हैं जो इन्हें तेज दौड़ने और वजन को संतुलित रखने में मदद करते हैं। वे ठंडी और बर्फीली जगहों पर रहते हैं। इनका सर्कुलेटरी सिस्टम इन्हें सर्दी के असर से बचाने का काम करता है। यह उनके शरीर को गर्म रखता है।

उनकी नाक में इंसानों की तुलना में 25 प्रतिशत अधिक रक्त वाहिकाएं होती हैं। जो बर्फीली हवाओं को गर्म करने में सक्षम हैं ताकि वे सांस ले सकें। यही वजह है कि उनकी नाक गुलाबी दिखती है। इस तरह कई गुण उन्हें बर्फीली जगहों पर रहने के लिए उपयुक्त बनाते हैं।

अधिक समाचार पढ़ने के लिए हमारे ट्विटर समुदाय में शामिल होने के लिए यहां क्लिक करें-

यह भी पढ़ें: ज्ञान: किंग खान के बंगले पर चर्चा: विला वियना कैसे बदल गया ‘मन्नत’ से, जानें पूरी कहानी

यह भी पढ़ें: नॉलेज: अनोखा रिकॉर्ड: 5500 मीटर ऊंची हिमालय की चोटी पर चढ़ी 7 साल की बच्ची सर, डाउन सिंड्रोम से पीड़ित पहला खास बच्चा



Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.