चुप रहो तुम रहो… चुप रहो हम रहते हैं! शांत रहने के कई शारीरिक और मानसिक लाभ हैं, आप कब तक शांत बैठे रहते हैं? – मौन, मौन रहना, लाभ, मानसिक स्वास्थ्य, शारीरिक स्वास्थ्य, शांति, मौन, स्वास्थ्य लाभ, जीवन शैली, स्वास्थ्य

0

[ad_1]

मौन रहने के फायदे क्या आप जानते हैं कि चुप रहने या चुप रहने के भी शारीरिक और मानसिक फायदे होते हैं? विशेषज्ञों का मानना ​​है कि शांत रहने से व्यक्ति अधिक सतर्क और उत्पादक बनता है।

चुप तुम रहे... चुप हम रहे!  शांत रहने के कई शारीरिक और मानसिक लाभ हैं, आप कितनी देर स्थिर बैठे रहते हैं?

छवि क्रेडिट स्रोत: फ्रीपिक

नयी दिल्ली: हर जगह शोर और हलचल के साथ, एक शांत जगह (चुपचाप जगह) का अलग आनंद है। आपने कई कविताओं में पढ़ा होगा कि खामोश रहकर या खामोश रहकर एक दूसरे की भावनाओं को समझना सबसे खूबसूरत संवाद है। लेकिन स्थिर या मौन रहने के शारीरिक और मानसिक लाभ होते हैं (शारीरिक और मानसिक रूप से फिट) भी होता है, क्या आप जानते हैं? विशेषज्ञों का मानना ​​है कि शांत रहने से व्यक्ति अधिक सतर्क और उत्पादक बनता है। इससे उन व्यक्तियों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य (स्वास्थ्य) बेहतर हो सकता है।

मौन का महत्व

आज हम जिस युग में जी रहे हैं, उसमें प्रौद्योगिकी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जो लोग एकांत चाहते हैं वे खुद को इस तकनीक में खोया हुआ पा सकते हैं। लेकिन शांति की खेती करने में पहला कदम पहले अपने मानसिक स्वास्थ्य को समझना है और फिर उन तकनीकों को शामिल करने का सचेत प्रयास करना है जो आपको भावनात्मक उदारता और शांति की शक्ति का अनुभव करने की अनुमति देती हैं।

कार के हॉर्न बजाने से लेकर पड़ोस के संगीत, ऑन-डिमांड शो और चैट करने वाले लोगों तक, आपकी बिल्डिंग के ऊपर से उड़ते विमान की आवाज़ तक, चारों ओर बहुत शोर है। इसमें औरों का क्या?कई बार आप खुद की आवाज भी नहीं सुन पाते। अपने भीतर की, अंतर्मन की आवाज को सुनने से आपके जीवन की आधी समस्याएं हल हो सकती हैं, वह आवाज भी नहीं सुनी जा सकती। वैज्ञानिक प्रमाणों के अनुसार यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी बात नहीं है।

विशेषज्ञ और शोध अध्ययन समान रूप से इस बात की पुष्टि करते हैं कि मौन में बिताया गया थोड़ा सा समय भी कई स्वास्थ्य लाभ दे सकता है, खासकर इस शोरगुल वाली दुनिया में। शांत रहने से मानसिक और शारीरिक दोनों तरह के कई सकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। आइए जानें कि वे क्या हैं..

– ब्लड प्रेशर कम हो सकता है।

– ध्यान केंद्रित करने और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ सकती है।

– परेशान करने वाले विचारों को शांत कर सकते हैं

-मस्तिष्क के विकास को प्रोत्साहित कर सकते हैं

– कोर्टिसोल को कम कर सकता है

– आंतरिक रचनात्मकता को उत्तेजित करता है

– अच्छी नींद को बढ़ावा देता है।

– मन और मस्तिष्क दोनों शांत रह सकते हैं

हालांकि, यहां खामोशी का मतलब संकट में खामोशी नहीं है। बल्कि किसी भी तरह के अनावश्यक शोर से दूर रहें और ध्वनि प्रदूषण से बचें। शांत या मौन रहते हुए धीमी, गहरी सांसें लेना अतिरिक्त लाभ प्रदान कर सकता है।

[ad_2]

Leave A Reply

Your email address will not be published.