चाणक्य नीति, माता-पिता को अपने बच्चों के सामने नहीं करना चाहिए ये काम

0

Chanakya policy, parents should not do this work in front of their children

आचार्य चाणक्य के अनुसार बच्चों को सक्षम और सफल बनाने के लिए माता-पिता को कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आचार्य चाणक्य को भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में राजनीति, राजनीति और अर्थशास्त्र का जनक माना जाता है। आचार्य चाणक्य द्वारा सदियों पहले बताए गए सिद्धांत भारत समेत दुनिया भर के देशों में मशहूर हैं। लोग उनके सिद्धांतों को अपने जीवन में अपनाकर सफलता की राह पर आगे बढ़ते हैं। चाणक्य की नीतियां आज भी उतनी ही प्रासंगिक हैं जितनी प्राचीन काल में थीं।

बच्चों को अच्छे संस्कार सिखाना चाहिए

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में बच्चे, बड़े और बुजुर्गों सभी को कोई न कोई सीख दी है। चाणक्य ने अपनी नीति यानी ज्ञान में माता-पिता और बच्चों के बारे में भी बहुत कुछ कहा है। चाणक्य नीति के अनुसार माता-पिता को अपने बच्चों की शिक्षा, संस्कार और स्वास्थ्य को लेकर हमेशा सतर्क रहना चाहिए।

आचार्य चाणक्य के अनुसार बच्चों पर सबसे ज्यादा प्रभाव उनके माता-पिता का पड़ता है। माता-पिता अपने बच्चों के पहले शिक्षक होते हैं। चाणक्य कहते हैं कि माता-पिता को अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देने चाहिए। हर माता-पिता को बच्चे के प्रति गंभीर रहना चाहिए।

बच्चे अपने माता-पिता की आदतें अपनाते हैं

आचार्य चाणक्य के अनुसार बच्चों को सक्षम और सफल बनाने के लिए माता-पिता को कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। दरअसल, बच्चे अपने माता-पिता की अच्छी आदतें तो अपना लेते हैं, लेकिन बुरी आदतों से वे बहुत जल्दी प्रभावित हो जाते हैं। ऐसे में बच्चों के मामले में चाणक्य की ये बातें नहीं भूलनी चाहिए.

बच्चों के सामने सोच-समझकर बोलें।

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति में बच्चों के बारे में कहा है कि हर इंसान को उनसे सोच-समझकर बात करनी चाहिए, क्योंकि बच्चे छोटे पौधों की तरह होते हैं। ऐसे में जैसा आप उन्हें तैयार करेंगे, वैसा ही परिणाम आएगा। चाणक्य के अनुसार अगर आप चाहते हैं कि बच्चों की वाणी और भाषा अच्छी हो तो सबसे पहले माता-पिता को उनकी वाणी पर ध्यान देना चाहिए। इसलिए उन्हें अपनी वाणी और भाषा को लेकर अधिक सावधान रहना चाहिए। क्योंकि इंसान की बोली और भाषा बहुत कुछ बता देती है।

माता-पिता को बच्चों के सामने झूठ बोलने से बचना चाहिए।

आचार्य चाणक्य नीति के अनुसार माता-पिता को बच्चों के सामने झूठ नहीं बोलना चाहिए और दिखावा नहीं करना चाहिए। यदि आप बच्चों के सामने झूठ बोलते हैं या उन्हें अपने झूठ में शामिल करते हैं, तो आप उनकी नजरों में अपना सम्मान खो देंगे। इसलिए बच्चों को झूठ और दिखावे से दूर रखने की कोशिश करें, नहीं तो बाद में आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

एक दूसरे का आदर और सम्मान करें।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि माता-पिता को आपसी संवाद के दौरान एक-दूसरे के आदर-सम्मान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। अगर उनके आपसी रिश्ते में सम्मान नहीं है तो इसका असर बच्चों के दिलो-दिमाग पर पड़ता है। ऐसे में इस पर विशेष ध्यान देना चाहिए.

किसी का अपमान करने से बचें.

अक्सर देखा जाता है कि माता-पिता अपने बच्चों के सामने ही एक-दूसरे से झगड़ने लगते हैं। पति-पत्नी एक-दूसरे में खामियां ढूंढने लगते हैं। चाणक्य नीति के अनुसार, ऐसा करने से वे अपने बच्चों की नजरों में सम्मान खोने लगते हैं। बच्चों के मन में उनके प्रति कोई सम्मान नहीं होता और ऐसे में अक्सर ऐसा होता है कि बच्चे भी आपका अपमान करने से नहीं हिचकिचाते। इसलिए ऐसा करने से बचें

Leave A Reply

Your email address will not be published.