सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

चाणक्य के अनुसार माता-पिता को अपने बच्चों का ठीक से पालन-पोषण करने के लिए ‘इन’ चीजों को अपनाना चाहिए

0 23


Related Posts

वजन कम | संग्रहित वसा को कैसे कम करें? सुबह-शाम वजन घटाएं, बस पत्ते…

हर माता-पिता का सपना होता है कि उनके बच्चे संस्कारी बनें। उन्हें अपने गुणों से अपने माता-पिता और कुल का नाम बड़ा करना चाहिए। बच्चे माता-पिता का भविष्य का सहारा होते हैं। इसलिए माता-पिता का यह दायित्व बनता है कि वे बचपन से ही उनका उचित पालन-पोषण करें। आचार्य चाणक्य ने अपने बच्चों को उचित संस्कार देने के लिए अपनी चाणक्य नीति में कुछ बातें कही हैं। अगर माता-पिता इन बातों को अपना लें तो उनके बच्चे अच्छे इंसान बन सकेंगे।

1. बच्चों को आज्ञाकारी बनाएं
माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों के सामने हमेशा उच्च और अच्छा व्यवहार करें, तभी बच्चे आज्ञाकारी बनते हैं। जिन माता-पिता के बच्चे आज्ञाकारी होते हैं वे बहुत भाग्यशाली होते हैं।

2. बच्चों को झूठ बोलने से रोकें
बच्चों को कभी भी झूठ बोलने की आदत नहीं डालनी चाहिए, अगर बच्चे झूठ बोल रहे हैं तो उन्हें समय रहते बंद कर देना चाहिए, इसलिए उन्हें सच बोलने का महत्व समझाएं।

3. बच्चों को दें उचित शिक्षा
माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों को उचित शिक्षा दें और साथ ही अपने बच्चों को जगह दें।

4. उनके मन में धर्म के प्रति प्रेम पैदा करें
बच्चों को उनके धर्म के बारे में सिखाया जाना चाहिए, मिथकों को बताया जाना चाहिए। शास्त्रों और श्लोकों का पाठ करना चाहिए।

5. बच्चों को समझाएं मेहनत और पैसे का महत्व
माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों में कड़ी मेहनत के मूल्यों और कड़ी मेहनत करने वालों के प्रति सम्मान पैदा करें। बच्चों को पैसे का महत्व भी सिखाया जाना चाहिए। यह आपको यह भी बताता है कि पैसे का सही इस्तेमाल कहां और कैसे करना है।

6. प्रकृति का महत्व
माता-पिता को अपने बच्चों को प्रकृति के महत्व और प्रकृति के पौधों, पत्तियों, फूलों और अन्य जीवित चीजों की देखभाल करने के तरीके के बारे में सिखाना चाहिए। साथ ही, प्रकृति में जीवित प्राणियों के प्रति क्रूरता को रोकने के लिए।

7. सबका सम्मान करना सिखाएं
माता-पिता को बच्चों में सभी के लिए सम्मान की संस्कृति पैदा करनी चाहिए, सभी का सम्मान करने वाले बच्चों की हमेशा सराहना की जाती है।

8. महापुरुषों को शिक्षा दें
माता-पिता अपने बच्चों को दुनिया और देश के महापुरुषों का पाठ पढ़ाएं। महापुरुषों के बलिदान और पराक्रम को सिखाएं।


यह भी पढ़ें: चाणक्य नीति: चाणक्य के अनुसार यह है ‘5’ लक्षण महत्वपूर्ण हैं

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.