कॉल अलर्ट: सरकार ने दी चेतावनी! अनजान नंबर से कॉल आए तो बात न करें, क्या है वजह?

0


इन दिनों अंजान इंटरनेशनल कॉलिंग और मैसेज के मामले सामने आ रहे हैं। इससे कई धोखाधड़ी और घोटालों के शिकार लोगों की संख्या में इजाफा हुआ है। स्कैमर्स अब यूजर्स द्वारा सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप पर लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। इसमें ये वॉट्सऐप कॉल और मैसेज के जरिए यूजर्स को बरगलाते और ठगते हैं।

बढ़ते मामलों का मुकाबला करने और सावधानी बरतने के लिए, दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने भारतीय उपयोगकर्ताओं से अज्ञात नंबरों से कॉल स्वीकार नहीं करने को कहा है।

मंत्री के मुताबिक दूरसंचार मंत्री ने साइबर धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए कई उपाय किए हैं। इनमें से मंत्रालय ने हाल ही में स्पैम कॉल और साइबर धोखाधड़ी से निपटने के लिए एक ‘संचार साथी’ पोर्टल लॉन्च किया है। सरकार ने 40 लाख से अधिक फर्जी सिम कार्ड और 41,000 अनधिकृत बिक्री एजेंटों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है।

संचार साथी: यह क्या है और यह उपयोगकर्ताओं को कैसे लाभ पहुंचाता है

  • संचार साथी एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-आधारित पोर्टल है, जिसे उपयोगकर्ताओं को खोए या चोरी हुए फोन से संबंधित मामलों के समाधान प्रदान करके ऑनलाइन टेलीकॉम धोखाधड़ी को रोकने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • पोर्टल को व्यक्तिगत डेटा की सुरक्षा और उपयोगकर्ताओं को उनके फोन कनेक्शन पर नियंत्रण देने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • यह पोर्टल आपके खोए या चोरी हुए स्मार्टफोन से संबंधित मामलों को संभालने में मदद करता है।
  • इसके बारे में पता लगाने के लिए यूजर्स अपने खोए हुए फोन को दूर से ही ब्लॉक या डिलीट कर सकते हैं।

संचार साथी उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित रखने के लिए कई सुरक्षा सुविधाओं के साथ आता है। उदाहरण के लिए, संदेश एन्क्रिप्शन, सुरक्षित वेब ब्राउज़िंग, फ़ायरवॉल सुरक्षा और मैलवेयर हमले उपयोगी हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.