सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

इस कारण से लिपटे होते हैं चंदन के पेड़ से सांप, जानकर हैरान हो जाओगे

47
For this reason, snakes are wrapped with sandalwood tree, you will be surprised to know सांप

चंदन के पेड़ से लिपटे हुए सांप को हम सभी ने तो नहीं देखा है लेकिन यह सुना जरूर है कि हर चंदन के पेड़ में सांप जरूर लिपटे होते हैं। आज इसी बारे में हम यहां पर विस्तारपूर्वक जानेंगे कि आखिर ऐसा क्या होता है जिसके कारण चंदन के पेड़ पर इतने सारे जहरीले सांप लिपटे होते है। क्या आपने कभी सोचा है कि अगर चंदन के पेड़ पर इतने सारे जहरीले सांप लिपटे होते हैं तो क्यों चंदन की लकड़ी जहरीले नहीं होती? चलिए जान लेते हैं इन सभी के पीछे का कारण।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने केलिए यहाँ क्लिक करें 

सांपों की यह आदत होती है कि वह ऐसी जगह में रहना पसंद करते हैं जो ठंडी होती है। आप सभी ने यह देखा होगा कि सांप अक्सर जमीन के अंदर और गीली मिट्टी में रहना पसंद करते हैं, क्योंकि उन्हें ठंडकता पसंद होती है। यही वह कारण है जिसके कारण हमेशा चंदन के पेड़ पर सांप लिपटे होते हैं, क्योंकि चंदन की लकड़ी में ठंडकता होती है।

सांप सिर्फ चंदन के पेड़ के आसपास ही नहीं पाए जाते सांप रजनीगंधा।

चमेली और रात रानी जैसे पेड़ों के आसपास भी पाए जाते हैं।

सांप इन सभी पौधों के आसपास इसलिए पाए जाते हैं।

क्योंकि यह सारे सुगंधित पेड़ पौधे बाकी पेड़ पौधों की अपेक्षा बहुत ठंडे होते हैं।

इन सभी पेड़ पौधों में तीव्र खुशबू होती है और सांपों के सूंघने की शक्ति भी बहुत तीव्र होती है। जिससे सांप बहुत आसानी से इन पौधों की खुशबू को सुंघते हुए इनके पास तक पहुंच जाते हैं, क्योंकि सांपों को इस तरह के पेड़ पौधे के आसपास रहना बहुत ही पसंद होता है।

चंदन के पेड़ और साप की है जोड़ी हमें जीवन की बहुत अच्छी सीख भी देती है।

इतने सारे जहरीले सांप हमेशा चंदन के पेड़ पर लिपटे होते हैं।

लेकिन इतने जहरीले होने के बावजूद भी वह इसकी लकड़ी को जहरीला नहीं बना पाते।

उसी तरह अगर हम भी ऐसे लोगों के साथ रहते हैं।

जिनकी आदतें अच्छी नहीं है, तो हमें उससे कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए और हमें अपने आदतों में उन अगुण को शामिल नहीं करना चाहिए।

Advertisement

Comments are closed.