इंटरनेट बंद करने के मामले में भारत नंबर 1 है, जानें कैसे होता है इंटरनेट शटडाउन

0

India is number 1 in internet shutdown, know how internet shutdown happens

इंटरनेट शटडाउन क्या है क्या आपने कभी सोचा है कि इंटरनेट शटडाउन क्या है? दरअसल यह एक ऐसी स्थिति है जब डेटा पैक या ब्रॉडबैंड कनेक्शन होने के बावजूद आप अपने डिवाइस में इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं। आसान भाषा में समझें तो इंटरनेट शटडाउन तब होता है जब आम यूजर के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है।

आज की डिजिटल दुनिया में हर दूसरा स्मार्टफोन यूजर इंटरनेट का इस्तेमाल करता है। फोन में डेटा पैक के साथ ही इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा सकता है।

आपने इंटरनेट शटडाउन के बारे में तो सुना ही होगा, क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर इंटरनेट शटडाउन होता क्या है? यदि हाँ, तो यह लेख आपके लिए एक नई जानकारी हो सकता है। यहां आप इंटरनेट शटडाउन टर्म के बारे में जानने वाले हैं।

इंटरनेट शटडाउन क्या है?

आसान भाषा में समझें तो इंटरनेट शटडाउन एक ऐसी स्थिति है जहां आम उपयोगकर्ता के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है। आवश्यकता पड़ने पर सरकारी तंत्र द्वारा इंटरनेट सेवा का उपयोग बंद किया जा सकता है। कई बार देश में गंभीर स्थिति पैदा हो जाती है, ऐसे में इंटरनेट का इस्तेमाल स्थिति को और भी खराब कर सकता है। असामाजिक तत्व इंटरनेट का दुरुपयोग कर मामले को बदतर बना सकते हैं। यही कारण है कि देश में दंगे होने पर सबसे पहले इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है।

इंटरनेट बंद करने का फैसला देश की केंद्र और राज्य सरकारों ने लिया है। इंटरनेट बंद होने पर एक आम उपयोगकर्ता किसी भी नेटवर्क या ब्रॉडबैंड से नेट का उपयोग नहीं कर सकता है।

इंटरनेट शटडाउन कैसे काम करता है

जब इंटरनेट बंद करने का निर्णय लिया जाता है तो आवश्यकता पड़ने पर इंटरनेट सेवा प्रदाताओं को इस निर्णय से प्रभावित क्षेत्र में नेटवर्क कनेक्टिविटी बंद करने के लिए कहा जाता है।

इंटरनेट सेवा प्रदाता को सरकार और उन निकायों के आदेश पर ऐसा करना पड़ता है जिनके पास ऐसे आदेश जारी करने का अधिकार है। इसके लिए इंटरनेट सेवा प्रदाता इंटरनेट पर सभी वेबसाइटों और सर्वरों के आईपी पते को उपयोगकर्ता के लिए दुर्गम बना देते हैं।

इंटरनेट सेवा प्रदाता उपयोगकर्ताओं को वेबसाइटों तक पहुंचने से रोकने के लिए डीएनडी ब्लॉकिंग का भी उपयोग करते हैं। इसके अलावा इंटरनेट को यूजर की पहुंच से दूर करने के लिए स्पीड थ्रॉटलिंग, ब्लैकलिस्टिंग जैसे तरीकों का भी इस्तेमाल किया जाता है।

 

प्रभावित स्थानों में से एक में इंटरनेट शटडाउन किया जाता है, ऐसी स्थिति में उस स्थान पर मौजूद कोई भी उपयोगकर्ता नेट का उपयोग नहीं कर सकता है। यदि उपयोगकर्ता इंटरनेट बंद होने वाले स्थान पर है तो यह जानकारी उपयोगकर्ता के स्थान और फ़ोन नंबर द्वारा एकत्र की जाती है।

भारत में बार-बार इंटरनेट बंद होना

भारत में कई बार ऐसी स्थिति बन चुकी है जब इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल देश में कुल 84 बार इंटरनेट शटडाउन हुआ। भारत में इंटरनेट शटडाउन के ये मामले दुनिया में सबसे ज्यादा थे.

इतना ही नहीं, साल 2022 में दुनिया भर में इंटरनेट शटडाउन के मामले में भारत का नाम लगातार पांचवीं बार टॉप पर है। साल 2021 में भारत में इंटरनेट शटडाउन के कुल 106 मामले सामने आए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.