सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

अस्थमा के मरीज सर्दियों में भूलकर भी न करें ये 4 काम

4
Asthma patients should not do these 4 things in winter

अस्थमा एक स्वास्थ्य स्थिति है जो वायुमार्ग के संकुचन और सूजन जैसी समस्याएं पैदा कर सकती है। अस्थमा के मरीज जानते हैं कि जलवायु परिवर्तन से उनके लक्षण प्रभावित हो रहे हैं। (Winter Health) सर्दियों में यह समस्या बढ़ सकती है. जब तापमान सामान्य से कम हो जाता है, ठंड से प्रेरित अस्थमा के लक्षण बिगड़ सकते हैं। अक्सर ये लक्षण घर से बाहर जाने या हल्का व्यायाम करने के बाद भी बिगड़ जाते हैं। इसलिए अस्थमा के मरीजों को इस दौरान अपना विशेष ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं अस्थमा के मरीज सर्दियों में क्या न करें

सर्दियों में अस्थमा के मरीजों को कौन से काम नहीं करने चाहिए?
WebMD के अनुसार, सर्दियों में अस्थमा का अटैक ज्यादा गंभीर हो सकता है। अस्थमा के मरीजों के लिए सर्दियां दो चुनौतियां लेकर आती हैं, एक तो ज्यादातर समय घर में बिताना और दूसरी ठंड।

अस्थमा के मरीज सर्दियों में इन चीजों से परहेज करें:

1. बाहर व्यायाम करना-

ठंडे मौसम का मतलब व्यायाम नहीं करना है। लेकिन, अस्थमा के मरीजों को बाहर व्यायाम नहीं करना चाहिए। इससे अस्थमा के लक्षण और भी बदतर हो सकते हैं। इतना ही नहीं लंबे समय तक परिश्रम करने से बचें।

2. सफाई न होना-

सर्दियों में हम अपना ज्यादातर समय घर के अंदर ही बिताते हैं। ऐसे में जरूरी है कि घर को समय-समय पर वैक्यूम करते रहें और उसे धूल रहित बनाएं ताकि एलर्जी को कम किया जा सके। अगर घर साफ नहीं है तो अस्थमा के लक्षण बिगड़ सकते हैं।

3. मुंह से सांस लेने से बचें-

कुछ लोगों को मुंह से सांस लेने की आदत होती है। अगर आपको अस्थमा है, तो आपको ठंडे तापमान में अपनी नाक से सांस लेने की जरूरत है।
ठंड के मौसम में मुंह से सांस लेने से अस्थमा का दौरा पड़ सकता है।

4. पालतू जानवरों के पास जाने से बचें-

अगर घर में पालतू जानवर हैं तो इससे भी अस्थमा हो सकता है। सर्दियों में यह समस्या बढ़ सकती है।
उस स्थिति में, अस्थमा के बिगड़ते लक्षणों से बचने के लिए जितना हो सके पालतू जानवरों से दूर रहें।

(अस्वीकरण : हम उपरोक्त लेख में उल्लिखित किसी भी प्रथा, पद्धति या दावे का समर्थन नहीं करते हैं।
इन्हें सलाह के तौर पर ही लिया जाना चाहिए। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/आहार को लागू करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श किया जाना चाहिए।)

Advertisement

Comments are closed.