अनुच्छेद 370 पर भारत का साथ देने आ गए दो बड़े देश, पीएम मोदी को बड़ी कामयाबी

293

कश्मीर पर मोदी सरकार ने साहसिक फैसला लिया है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया और इसको केन्द्र शासित प्रदेश घोषित कर दिया। इस फैसले के बाद से ही पाकिस्तान में खलबली मच गई है। पाकिस्तान इसको वैश्विक मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा है जबकि भाजपा सरकार को इस बीच बड़ी सफलता मिल गई है। दो बड़े देश इस मुद्दे पर भारत के साथ खड़े हो गए हैं। इससे पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है।

प्रतिदिन ₹200 कमाने के लिए ऐप डाउनलोड करें

पाकिस्तान को मिल गया था तुर्की का साथ

पाकिस्तान भारत सरकार के इस फैसले का लगातार विरोध कर रहा है। इमरान खान ने इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र को चिट्ठी लिखकर शिकायत भी कर दी थी। वहीं दूसरे देशों का भी समर्थन मांग रहा था। इसी बीच पाक पीएम को एक सफलता तब मिल गई थी जब उनको तुर्की ने साथ देने का वादा कर दिया था। तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा था कि कश्मीर मुद्दे पर वो उनके साथ हैं। हालांकि तुर्की कश्मीर मसले पर हमेशा से ही पाकिस्तान का पक्ष लेता जा रहा है।

इधर पीएम मोदी को मिल गया दो बड़े देशों का साथ

पाकिस्तान को तुर्की के समर्थन के बीच भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी को भी दमदार सफलता मिल गई है। दो बड़े देश इस मसले पर भारत के साथ आकर खड़े हो गए हैं। इनमें एक मुस्लिम देश है। जी हां यूएई और श्रीलंका जैसे देशों ने इस मुद्दे पर भारत का साथ दे दिया है। यूएई के राजदूत अहमद-अल-बन्ना ने कहा है कि हमने अनुच्छेद 370 के कुछ वर्गों को समाप्त करने के भारत के फैसले पर ध्यान दिया है। वो बोले कि राज्यों का पुनर्गठन स्वतंत्र भारत के इतिहास में कोई अनोखी घटना नहीं है। उन्होंने कहा कि ये भारत का आतंरिक मामला है। वहीं श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने भी इसको भारत का अंदरूनी मामला करार देते हुए कहा है कि लद्दाख राज्य का निर्माण और पुनर्गठन हिन्दुस्तान का आंतरिक मामला है, यह एक सुंदर क्षेत्र है जहां एक बार जरूर घूमने जाना चाहिए।

Advertisement

Comments are closed.