सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

अक्षय तृतीया के दिन इन उपायों से होगी आर्थिक परेशानियां खत्म और भरेंगे घर का खजाना

0 13


bhagvan

अक्षय इस साल मंगलवार 3 मई को तीसरे नंबर पर हैं। ‘अक्षय तृतीया’ को ‘अबुजा मुहूर्त’ कहा जाता है और इस दिन ‘परशुराम जयंती’ भी मनाई जाती है। इस पवित्र दिन पर स्नान, दान और धार्मिक गतिविधियों का बहुत महत्व है। इस दिन देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा का भी विशेष महत्व है। अक्षय तृतीया के दिन देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा नियमानुसार करनी चाहिए।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन घर में कोई खास काम करना बेहद शुभ माना जाता है। कहते हैं ऐसा करने से भाग्य चमकेगा और धन की वर्षा होगी. आइए जानते हैं कार्यों के बारे में-

ऐसा माना जाता है कि इस दिन तुलसी की सेवा करने से धन और अनाज की कमी नहीं होती है। नियमित रूप से दीपक जलाना और तुलसी के पौधे की पूजा करना मां लक्ष्मी की कृपा है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने से विशेष फल मिलता है। केसर और चंदन से मां लक्ष्मी की पूजा करें। इससे आपको आर्थिक तंगी से मुक्ति मिलेगी। 11 गायों को लाल कपड़े में बांधकर पूजा के स्थान पर रखना।

शास्त्रों के अनुसार इस दिन स्नान, घर, जप, दान आदि करने से अनंत फल मिलते हैं, इसलिए भारतीय संस्कृति में इसका बहुत महत्व है। अक्षय तृतीया के दिन जो भी शुभ कार्य किया जाता है उसका फल मिलता है। अविनाशी का अर्थ है, जिसका कभी क्षय न हो या जो कभी नाश न हो। वैसे तो सभी बारह महीनों के शुक्ल पक्ष को तीसरा शुभ माना जाता है, लेकिन वैशाख तिथि को स्वयंसिद्ध क्षण माना जाता है।

अक्षय तृतीया के शुभ दिन सत्तू खाना भी बहुत शुभ माना जाता है। इसके साथ ही दाल, खीरा, तरबूज और सत्तू-घी-चीनी भी ब्राह्मणों को दान में दी जाती है। शाम के समय घर के मुख्य द्वार की दाहिनी ओर घी का दीपक जलाएं। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

कहा जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन दान करना चाहिए। अगर आपके पास ज्यादा पैसा नहीं है तो भी जितना हो सके दान करें । ऐसा माना जाता है कि इस दिन दान करने से दान करने वाले के लिए अच्छा समय आता है और उसका दुख दूर होता है। शास्त्रों में अक्षय तृतीया को अक्षय पुण्य और धन देने के लिए कहा गया है। इस दिन मनुष्य जो भी शुभ कार्य करता है, उसके पुण्य का कभी अंत नहीं होता।

अधिक पढ़ें

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.