सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

अंपायरों की कमी के कारण बीसीसीआई ने हिलाया घरेलू सीजन

267

अंपायरों की कमी के चलते बीसीसीआई ने घरेलू टूर्नामेंट कूच बेहार ट्रॉफी और सीनियर वीमंस के नॉक आउट मुकाबलों को आगे खिसका दिया है. कूच बेहार ट्रॉफी के तीसरे राउंड के मुकाबले के कार्यक्रम में बदलवा करना पड़ा. क्योंकि दो टूर्नामेंट एक साथ कराने के लिए अंपायर और मैच रैफरी नहीं हैं.

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स की खबर के मुताबिक बीसीसीआई के महाप्रबंधक सबा करीम ने राज्‍य इकाइयों को और घरेलू सरंचना पर नए शामिल को पत्र लिखकर कहा कि कूच बेहार ट्रॉफी के तीसरे राउंड के मैच 17 से 20 दिसंबर की बजाय 21 जनवरी से 24 जनवरी के बीच खेला जाएगा. इसी तरह से नॉकआउट मैच के कार्यक्रम को 29 जनवरी से आगे बढ़ाकर 18 फरवरी कर दिया है. सीनियर वीमंस नॉकआउट वनडे मैच का भी कार्यक्रम बदल दिया है, जो पहले 24 से 29 दिसंबर के बीच खेला जाना था, वह अब 26 से 31 दिसंबर खेला जाएगा. सबा करीम ने कहा कि हमें यह सुनिश्वित करने की जरूरत है कि सभी अंपायरों को समान मैच मिले और हमारे पास न्‍यूट्रल अंपायर्स भी हो. उन्‍होंने कहा कि हमें नहीं चाहिए कि हमारे पास इस सीजन में खेले जाने वाले कई मैच है.

टूर्नामेंट में नौ नए राज्यों के आने से भारतीय क्रिकेट का घरेलू कैलेंडर काफी अस्त व्यस्त हो गया है. कूच बेहार ट्रॉफी 19 नवंबर को शुरू होनी थी, लेकिन उसी दिन रणजी के भी कुछ मैच हैं. बीसीसीआई के 2018 2019 घरेलू सीजन में 2017 मैच खेले जाएंगे और यह सीनियर वीमंस टी20 चैंलेजर ट्रॉफी के साथ शुरू होगा.

4 आसान से सवालों के जवाब देकर जीतें 400 रुये– यहां क्लिक करें

जिओ Sale :- 
Jio 2 Smartphone  मोबाइल को 499 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JIO Mini SmartWatch को 199 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे
JioFi M2 को 349 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

Jio Fitness Tracker को 99 रुपये में खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे

100% Working !! एक ही रात में पिम्पल्स का हटाने का उपचार | Pimples se Kaise Chhutkara Paayen

सभी ख़बरें अपने मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

Advertisement

Comments are closed.