सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

अब ड्राइविंग लाइसेंस नहीं बनेगा इन लोगो का जानिए क्यों

0 784

वैसे तो ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आपकी शैक्षणिक योग्यसता कोई मायने नहीं रखता है लेकिन अब बिना पढ़े लिखे लोगों की मुश्किलें बढ़ने वाली है. दरअसल, राजस्था न हाईकोर्ट ने बिना पढ़े-लिखे ड्राइवरों को जारी किए गए सभी लाइट मोटर व्हीकल ड्राइविंग लाइसेंस को रद्द करने का आदेश दिया है. इसके साथ ही कोर्ट ने ड्राइविंग लाइसेंस न दिए जाने का निर्देश दिया.

ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने निर्देश जारी कर अनपढ़ लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस नहीं दिए जाने का आदेश दिया है। राजस्थान हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने निर्देश जारी किया है कि अनपढ़ लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस जारी नहीं किया जाएगा। कोर्ट ने कहा है कि अनपढ़ लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस देना खतरनाक साबित हो सकता है क्योंकि वो सड़क के किनारे लगे साइन बोर्ड नहीं पढ़ सकते हैं और न ही वार्निंग सिग्नल को समझ सकते हैं।

राजस्थाकन हाईकोर्ट के जस्टिस संजीव प्रकाश शर्मा की सिंगल बेंच का कहना है कि बिना पढ़े-लिखे ड्राइवर पैदल चलने वालों के लिए खतरा हैं, क्योंकि वे सड़कों और चौराहों पर लगे साइनबोर्ड्स और चेतावनी नहीं पढ़ सकते हैं. इसके साथ ही कोर्ट ने प्रशासन को आदेश दिया कि लाइसेंस को वापस लेकर जरूरी कार्रवाई भी सुनिश्चित करें.

Now you will not get a driving license.

कोर्ट ने यह आदेश एक रिट याचिका को खारिज करते हुए दिया. याचिका में एक व्यकक्ति ने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके कहा था कि परिवहन विभाग उसे भारी मोहन वाहन (एचएमवी) का ड्राइविंग लाइसेंस जारी नहीं कर रहा है. उसने हाई कोर्ट से इस मामले में परिवहन विभाग को निर्देश जारी करने का अनुरोध किया था.

बता दें कि देश में मोटर वाहन अधिनियम या केंद्रीय मोटर वाहन नियम के अनुसार अभी तक हल्के मोटर वाहनों के लिए ड्राइविंग लाइसेंस रखने के लिए किसी भी तरह के न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता को अनिवार्य नहीं किया गया है.

इन लोगों को नहीं मिलेगा ड्राइविंग लाइसेंस

कोर्ट ने कहा है कि अनपढ़ लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस जारी न किया जाए। ऐसा करना खतरनाक साबित हो सकता है। इसका सबसे ज्यादा नुकसान सड़क पर चल रहे पैदल यात्रियों को उठाना पड़ सकता है। राजस्थान हाईकोर्ट ने इस निर्देश को लेकर ट्रासंपोर्ट अथॉरिटी को निर्देश जारी किया है। कोर्ट ने कहा कि एक गाइडलाइन तय कर निर्देश जारी करें कि पढ़ने और लिखने में सक्षम व्यक्ति को ही सिर्फ ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जाएगा।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.