अब मिलेगा मेट्रो स्टेशन और चलती ट्रेनों में फ्री वाईफाई का सपोर्ट जानिए इसके बारे में

0 770

अब बहुत जल्द दिल्ली मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को फ्री वाई-फाई की सुविधा मिलेगी। जी हां, दरअसल अधिकारियों का मानना है कि डीएमआरसी ने मैसर्स टेक्नो सेट कॉम नाम की कंपनी के साथ करार किया था। बता दें कि अक्टूबर 2016 में सबसे पहले एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन के स्टेशनों पर फ्री वाई-फाई की सुविधा शुरू हुई थी।

दरअसल अगस्त 2017 में ब्लूलाइन के सभी मेट्रो स्टेशनों में फ्री वाई-फाई शुरू हुआ। अब रेड, ग्रीन और वॉयलट लाइन के स्टेशनों पर भी फ्री वाई-फाई देने की तैयारी डीएमआरसी कर रहा है।

आपको बता दें कि मेट्रो स्टेशनों के साथ-साथ डीएमआरसी मेट्रो ट्रेनों में भी फ्री वाई-फाई देने की कोशिश में लगा है। इसके अलावा जल्द एयरपोर्ट लाइन पर इसकी शुरुआत हो सकती है।

काम हो गया है प्रारंभ

मालूम हो कि डीएमआरसी के मुताबिक, मेट्रो के येलो लाइन के सभी स्टेशनों पर वाई-फाई सिग्नल ट्रांसमिशन डिवाइस लगाने का काम शुरू हो गया है। दरअसल डीएमआरसी के मुताबिक, ट्रेनों में 300 एमबीपीएस तक की स्पीड दी जाएगी। बता दें कि अगले तीन-चार महीनों में काम पूरा हो जाएगा। हालांकि फेज-3 में बनी पिंक और मजेंटा लाइनों के स्टेशनों पर अभी यह सुविधा नहीं मिलेगी।

मेट्रो में महिलाओं के मुफ्त सफर से जुड़े प्रस्ताव को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

आपको बता दें कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने मेट्रो में महिलाओं के लिए मुफ्त सफर के आप सरकार के प्रस्ताव को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। जी हां, दरअसल मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर ने याचिका को सुनने से यह कहकर इनकार कर दिया कि इसमें कोई दम नहीं है।

मालूम हो कि पीठ ने याचिकाकर्ता पर भी 10,000 रुपए का जुर्माना लगाया। इसके अलावा अदालत ने याचिकाकर्ता की उस अपील को भी खारिज कर दिया, जिसमें किराया कम करने और टिकट की कीमत मौजूदा छह स्लैब के बजाय इसे 15 स्लैब में करने का अनुरोध किया गया था।

दरअसल पीठ ने कहा कि, ‘‘किराया तय करना वैधानिक प्रावधान है और यह लागत समेत कई कारकों पर निर्भर करता है जिसे एक जनहित याचिका में निर्धारित नहीं किया जा सकता”

loading...

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.