सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

बंद होने वाले है आधार कार्ड के नंबर जानिए इसके बारे में

0 697

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) यानी आधार प्राधिकरण आधार कार्ड धारकों को सुरक्षा के लिए समय-समय पर जानकारी देती रहती है। अब UIDAI ने यूजर्स की सुरक्षा को देखते हुए कहा है कि स्मार्ट आधार कार्ड, प्लास्टिक आधार कार्ड, पीवीसी आधार कार्ड पूरी तरह है अवैध हैं और इनका इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

UIDAI ने हाल ही में अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर Tweet के जरिए अपने यूजर्स को जागरूक किया है। UIDAI ने अपनी पोस्ट में कहा है कि पीवीसी आधार कार्ड, प्लास्टिक आधार कार्ड या स्मार्ट आधार कार्ड अवैध हैं।

यदि कोई UIDAI की गाइडलाइन्स के विरुद्ध इनका इस्तेमाल करता है तो यह मान्य नहीं होगा। UIDAI के अनुसार, पीवीसी आधार कार्ड, प्लास्टिक आधार कार्ड या स्मार्ट आधार

कार्ड का इस्तेमाल पूरे देश में मान्य नहीं होगा। UIDAI इससे पहले भी कई बार पीवीसी, प्लास्टिक या स्मार्ट आधार कार्ड के इस्तेमाल को लेकर गाइडलाइन जारी कर चुका है।

प्लास्टिक आधार बनवाने के लिए खर्च करने पड़ते हैं इतने पैसे  
बयान में यह भी कहा गया कि प्‍लास्टिक या पीवीसी शीट पर आधार की प्रिन्टिंग के नाम पर लोगों से 50 रुपये से लेकर 300 रुपये तक वसूले जा रहे हैं.

कहीं-कहीं तो इससे भी ज्‍यादा चार्ज लिया जा रहा है. UIDAI ने लोगों से इस तरह की दुकानों या लोगों से बचने की और उनके झांसे में न आने की सलाह दी है.

ये आधार भी है वैलिड


UIDAI ने अपने बयान में इस बात पर भी जोर दिया है कि ओरिजनल आधार के अलावा एक साधारण पेपर पर डाउनलोड किया हुआ आधार और एमआधार पूरी तरह से वैलिड हैं. इसलिए आपको स्‍मार्ट आधार के चक्‍कर में पड़ने की जरूरत नहीं है.

यहां तक कि आपको कलर्ड प्रिन्‍ट की भी जरूरत नहीं है. साथ ही आपको अलग से आधार कार्ड के लैमिनेशन या प्‍लास्टिक आधार कार्ड की जरूरत नहीं है.

अगर आपका आधार खो गया है तो आप इसे मुफ्त में https://eaadhaar.uidai.gov.in से डाउनलोड कर सकते हैं.

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.