Taboola

भारत सरकार लगा रही है इन 12 दवाओं पर पाबंदी कोरोना वायरस की वजह से

0 928

पूरी दुनिया में फैल रहे जानलेवा कोरोना वायरस की वजह से 1,775 लोगों की मौत हो चुकी है इनमें से 1,770 तो सिर्फ चीन के ही हैं और यह आकड़ा रोज बढ़ता जा रहा है। अब तक पूरी दुनिया में 71,326 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए है। जहां एक तरफ चीन इस वायरस से लड़ रहा है वहीं भारत इस वायरस को लेकर बेहद सतर्क हो गया है। भारत में जरूरी दवाओं की उपलब्धता बरकरार रखने के लिए सरकार एंटीबायोटिक्स, विटामिन्स और हॉर्मोन सहित लगभग 12 दवाओं के निर्यात पर बैन लगा सकती है। देश में दवाओं की उपलब्धता का आकलन करने के लिए गठित आठ सदस्यों वाली एक्सपर्ट कमिटी ने क्लोरमफेनिकॉल, नियोमाइसिन, मेट्रोनिडाजोल, एजिथ्रोमाइसिन, क्लिंडामाइसिन, विटामिन B1, B2 तथा B6 सहित 12 दवाओं के साथ प्रॉजेस्ट्रॉन हॉर्मोन के निर्यात पर बैन लगाने की सिफारिश की है। प्रोजेस्ट्रॉन का इस्तमेमाल गर्भवास्था तथा माहवारी से जुड़ी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है।

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

Government of India is banning these 12 drugs due to Corona virus

केंद्र सरकार से आग्रह करते हुए पैनल ने एक रिपोर्ट पेश की है जिसमें कहा गया है कि राज्य सरकारों को आवश्यक वस्तु अधिनियम के प्रावधानों को लागू करने और जमाखोरी तथा किसी भी तरह की कृत्रिम कमी पैदा करने के खिलाफ कड़ी निगरानी करने को कहे। इसके साथ ही पैनल ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि व्यापारी मौके का किसी तरह से फायदा नहीं उठाएं और एपीआई या मेडिसिन फॉर्म्यूलेशंस की कीमतों में इजाफा नहीं करें, यह सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकारें कदम उठाएं।Government of India is banning these 12 drugs due to Corona virus

चीन कोरोना वायरस से संक्रमित 84,000 करोड़ से ज्यादा के नोट करेगा नष्ट!
कोरोना वायरस : जाने क्या है इसके शुरुआती लक्षण?

जाने कैसे लेता है कोरोना वायरस इंसान की जान?Government of India is banning these 12 drugs due to Corona virus

बता दे, चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा प्रकोप है और इसी प्रांत से भारतीय दवा उद्योग सर्वाधिक कच्चा माल या ऐक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडियंट (API) का आयात करता है। हालांकि, फिलहाल देश में दवाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन हुबेई प्रांत को अगर फरवरी के बाद भी बंद रखा गया तो परेशानी पैदा हो सकती है।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Taboola