PM Modi ने निकाली एक नयी योजना सीधे अकाउंट में आ जायेगे 8000 रुपए जानिए कैसे

0 1,058

मोदी सरकार अपने बजट में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम के तहत किसानों को दी जाने वाली सहायता बढ़ा सकती है. लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इसकी अच्छी सियासी फसल काटी है. अब विधानसभा चुनावों के मद्देनजर और ग्रामीण अर्थव्यवस्था की सेहत सुधारने के लिए सरकार इस स्कीम के तहत मिलने वाले सालाना 6000 रुपये को बढ़ाकर 8000 कर सकती है. तेलंगाना और ओडिशा की सरकार अपने राज्य के किसानों को मोदी सरकार की इस स्कीम से कहीं अधिक सहायता दे रही हैं. इसलिए भी बजट में किसानों के लिए इसकी बढ़ोत्तरी का तोहफा मिलने की संभावना है.

अब तक देश के चार करोड़ किसानों को इस स्कीम के तहत चार-चार हजार रुपये मिल चुके हैं. पहली बार है जब किसानों के अकाउंट में सीधे पैसा जा रहा है. केंद्र का भेजा सौ फीसदी पैसा मिल रहा है, वरना अब तक किसानों के लिए हजारों करोड़ के बजट बनते थे और वो पैसा अधिकारी और बाबू मिलकर फाइलों में ही खा जाते थे. पैसा मिल रहा है तो खेती की सेहत भी सुधर रही है और मार्केट की. क्योंकि किसान यह पैसा कहीं न कहीं खर्च कर रहा है.

किसान सम्मान निधि के तहत अभी सालाना 6000 रुपये मिलते हैं

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्रुप चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर डॉ. सौम्य कांति घोष ने अपने एक रिसर्च पेपर में कहा है कि पीएम किसान सम्मान निधि का 14 करोड़ किसानों तक विस्तार करना एक पॉजिटिव स्टेप है. अगले पांच साल के लिए इसे बढ़ाकर 6000 रुपये सालाना से 8000 रुपये करना चाहिए. यह मार्केट में फील गुड फैक्टर और उत्साह बढ़ाएगा. उन्होंने इसकी वजह बताई है.



क्या पैसा बढ़ सकता है?

यह सवाल जब हमने केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी से किया तो उन्होंने कहा इसमें स्कोप है. किसान की जैसी आवश्यकता है उसके अनुसार प्रधानमंत्री निर्णय लेंगे. सरकार किसानों के हित के लिए हमेशा खड़ी है. उनके लिए ये सरकार अच्छा निर्णय ही लेगी. हम सुनिश्चित कर रहे हैं कि इसका लाभ सभी किसानों को मिले. मोदी सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट बैठक में ही किसान सम्मान निधि का विस्तार किया और उनके लिए पेंशन की घोषणा की.

तेलंगाना में 8000 रुपये वाला मॉडल

सबसे पहले तेलंगाना ने किसानों के अकाउंट में पैसा डालना शुरू किया. तेलंगाना में सरकार फसलों की बुआई से पहले प्रति एकड़ तय राशि सीधे खाते में भेजकर किसानों को लाभ देती है. यहां के किसानों को प्रति वर्ष प्रति फसल 4000 रुपये एकड़ की रकम दी जाती है. दो फसल के हिसाब से किसानों को हर साल 8000 रुपये प्रति एकड़ मिल जाते हैं.

loading...

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.