सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

भारत के हर आँगन में होने वाली तुलसी करती है इन पांच बिमारियों का जड़ से सफाया

56

हम हर दिन तुलसी की पूजा करते हैं। तुलसी पूजा महोत्सव हर साल उत्तरा दशमी के अवसर पर आयोजित किया जाता है। तुलसी न केवल आध्यात्मिक रूप से बल्कि हमारे दैनिक जीवन में भी बहुत महत्वपूर्ण है। 5 प्रकार की तुलसी होती है 1) श्याम तुलसी, 2) राम तुलसी, 3) श्वेत/विष्णु तुलसी, 4) वन तुलसी, 5) नींबू तुलसी ।

यह पूरे विश्व की सबसे प्रभावकारी और बेहतरीन दवा है।

एक एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, एंटी-फ्लू, एंटी-बायोटिक, एंटी-इफ्लेमेन्ट्री व एंटी–डिजीज की तह कार्य करने लगती है।

तुलसी एक ऐसा पौधा है जो अधिक ऑक्सीजन छोड़ता है।

घर के आसपास यार्ड में तुलसी उगाना बेहतर होता है।

1. गले का दर्द

हर दिन 8 से 10 तुलसी की पंखुड़ियों का अधिक सेवन करने से शरीर के स्वास्थ्य में सुधार होगा।

अगर आपके गले में दर्द हो रहा हो तो गले के दर्द से राहत के लिए 1 बड़ा चम्मच तुलसी के रस में 1 चम्मच शहद मिलाएं।

2. खुजली और दाने में दें आराम

तुलसी के पत्तों को हल्दी के रस के साथ अच्छी तरह से मिला लें और ये लेप  त्वचा पर खुजली और दाने जैसे त्वचा के रोगों को ठीक करने के लिए लगाया जाता है।

3. कान का दर्द

और इसका एक फायदा और है कि तुलसी का रस कान के दर्द को कम करता है।

4. पाचन शक्ति बढ़ाएं

तुलसी के रस का पाचन शक्ति बढ़ाता है। इस दिन में एक बार अवश्य पीयें।

5. बुखार और जुकाम करे दूर

तुलसी के रस, काली मिर्च और शहद को मिलकर  दिन में तीन बार खाने से बुखार और जुकाम दूर होता है।

Advertisement

Comments are closed.