सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले 90% लोग नहीं जानते होंगे ये बातें, जानिए

15

भारतीय टॉयलेट सिस्टम और वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम में काफी अंतर है। लेकिन भारतीय टॉयलेट सिस्टम वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम से कई गुना बेहतर है। जो फायदा भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने से शरीर को होता है, वह फायदा वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने से नहीं होता। बल्कि वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का प्रयोग करने से कई तरह की बीमारियां होने लगती हैं एवं शरीर को कई अन्य नुकसान होते हैं।

जो लोग वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल बचपन से कर रहे हैं उनकी हड्डियां कमजोर हो रही है। इस सिस्टम का प्रयोग करने से हड्डियों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। समय गुजरने के साथ साथ हड्डियां कमजोर हो जाती है। आज की इस पोस्ट में हम आपको भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने के तीन गजब के फायदे आपको बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में

1. जो लोग भारतीय टॉयलेट सिस्टम का प्रयोग करते हैं वो लोग अपने हाथों को साबुन से धोते हैं। लेकिन वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का प्रयोग करने वाले लोग अपने हाथों को धोने के लिए टॉयलेट पेपर का प्रयोग करते हैं। इससे हाथों में बैक्टीरिया रहने का खतरा कई गुना तक बढ़ जाता है।

2. भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले लोगों को बार-बार उठना और बैठना पड़ता है, जिससे हमारी शरीर की बहुत ही अच्छी तरह से एक्सरसाइज हो जाती है। इस वजह से हमारे शरीर का विकास तेजी से होता है। हमारी हड्डियां और मांसपेशियां ताकतवर बन जाती है। लेकिन जब हम वेस्टर्न टॉयलेट का इस्तेमाल करते हैं तो फिर हमें ज्यादा उठना बैठना नहीं पड़ता।

3. भारतीय टॉयलेट सिस्टम का उपयोग करने वाले लोगों का पाचन तंत्र बहुत ही स्वस्थ रहता है, क्योंकि इससे पाचन तंत्र पर दबाव पड़ता है, जिससे हमारा पेट पूरी तरह से साफ हो जाता है। इस वजह से गैस, कब्ज, एसिडिटी जैसी समस्या होने का खतरा नहीं रहता। इसके विपरीत वेस्टर्न टॉयलेट का इस्तेमाल करने से हमारा पेट पूरी तरह से साफ नहीं होता है और गंदगी पेट में ही जमी रहती है।

Advertisement

Comments are closed.