बेटे को माँ की मौत सदमा ३ दिन तक गेम खेलता रहा

0 223

मां की बॉडी और पास लगा तकिया जिस पर बेटा सोता था।
मोहाली. एक महिला ने फांसी लगाकर सुसाइड कर ली और उसके पास एक सुसाइड नोट भी मिला। उस लेटर में मृतकाने लिखा है कि वह अकेली रह-रहकर थक चुकी है। पहले भी एक बार सुसाइड का प्रयास किया, लेकिन बच गई थी। इस बार खुद को खत्म कर रही है। वह अपनी मौत की खुद जिम्मेदार है। दूसरे कमरे में पुलिस को किसी के 7 नए पेंट-कोट व टाई मिली। यह किसके हैं, पुलिस इस जांच में जुटी है। वहीं बड़ी बात यह है कि 6 साल का बच्चा अरमान तीन दिन तक मां के शव के साथ रहा। जहां जसपिंदर ने फंदा लगाया, वहां खून बिखरा था, लेकिन न तो उससे बच्चे के कपड़े गंदे हुए और न ही उसके पैरों से खून कहीं और लगा। ऐसे में पुलिस मामले को संदिग्ध मान रही है। ये था पूरा मामला…

पुलिस ने बताया कि शनिवार को जसपिंदर के पति रणजीत सिंह थाने पहुंचे। उन्होंने बताया कि करीब एक हफ्ता पहले उनकी जसपिंदर से बात हुई थी। वह काफी डिस्प्रेस्ड थी। उसने यही कहा था कि वह कैनेडा जा रही है। रणजीत िसंह फौजी फरीदकोट में तैनात हैं। दोनों ने लव मैरिज की थी। फौजी की बहन व जीजा अमनदीप सिंह ने बताया कि जसपिंदर अपने ससुराल से पूरी तरह कटऑफ हो गई थी। कई सालों से उनको यह भी नहीं पता था कि वह मोहाली में कहां रह रही है। वह हाई लाइफ जीना चाहती थी और गांव में रहना पसंद नहीं करती थी। कुछ समय पहले फौजी ने उससे तलाक मांगा था, लेकिन उसने मना कर दिया था।

शव के पास मोबाइल पर वीडियो गेम खेलता रहा 6 साल का अरमान

मां के शव के साथ तीन दिन तक रहे 6 साल के अरमान की बातों से पुलिस हैरान है कि वह इतने दिनों तक मां के शव के साथ कैसे रहा। मां ने फंदा लगाने से पहले खाना खिलाकर उससे कहा था कि मैं मरने जा रही हूं, लेकिन किसी को मत बताना कि तुम्हारी मां मर गई है। इसी कारण उसने इस बारे में किसी को नहीं बताया और तीन दिन तक मां के शव के साथ ही रहा। वह बाहर दोस्तों के साथ खेलने चला जाता और आकर मोबाइल पर गेम खेलता रहता।

भूख लगती तो बिस्कुट खा लेता। यहां तक कि रोज कपड़े लेने आने वाले धोबी को भी उसने कुछ नहीं बताया। ये बातें शनिवार को अपने मामा बलजीत सिंह और मामी के साथ आए अरमान ने पुलिस को बताईं।

धोबी से बोल देता था-मां ऑफिस गई है

अरमान ने बताया कि रोज धोबी उनके घर में कपड़े लेने आता था। डोर बेल बजती तो वह भागकर बाहर आ जाता और घर की कुंडी बाहर से बंद कर देता। फिर धोबी को ऊपर से ही आवाज लगाकर कहता-मम्मी ऑफिस गई है। शाम को आएगी। खुद कपड़े दे देगी।

मां की फोन कॉल्स काटता रहा अरमान

बलजीत ने बताया कि जसपिंदर ने अरमान को दो मोबाइल फोन दिए थे। अरमान ने बताया कि वह मां के शव के पास मोबाइल पर वीडियो गेम्स खेलता रहा। जसपिंदर के भाई व पिता रिटायर्ड टीचर सुरजीत सिंह जब उसके मोबाइल पर कॉल करते तो अरमान फोन कॉल काट देता। इस बारे में जब अरमान से पूछा गया तो उसने कहा कि मां ने मना किया था कि उसकी मौत का किसी को भी नहीं बताना, इसलिए वह किसी कॉल को उठाकर जवाब देने के बताय फोन काटता रहा।

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.