सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

जीवन में लक्ष्य कैसे प्राप्त करे – कैसे करें लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित

233

जिंदगी जीने का मजा तब ही आता है जब जीवन में जीने का कोई मकसद हो। बिना किसी मकसद की जिंदगी तो जानवर भी जीते हैं। फिर हम में और जानवरों में अंतर ही क्या रह गया? आपका अस्तित्व तभी कायम रह सकता है जब आप किसी लक्ष्य को लेकर जीवन जी रहे हैं। लेकिन आज के दौर में समस्या ये है कि लक्ष्य कैसे प्राप्त करें ? इसी समस्या के निवारण के लिए आज हम आपके लिए लाये हैं जीवन को सरल और सफल बनाने के लिए कि जीवन में लक्ष्य कैसे प्राप्त करे :-

लक्ष्य का अर्थ

आज के समय में संसार में मात्र 2 प्रतिशत लोग अपने सपनों या लक्ष्य प्राप्ति के लिए जी रहे हैं। बाकी के सारे लोग बस अपनी जिंदगी को धक्का लगा रहे हैं। उनके जीने का कोई उद्देश्य नहीं है। ठीक उसी तरह जैसे जानवरों का उद्देश्य बस अपना पेट भरना होता है। ऐसे लोग उठते हैं भोजन की तलाश करते हैं, खाते हैं- पीते हैं और सो जाते हैं। ऐसे लोगों का जीना व्यर्थ है। जिंदगी वही जी रहा है जिसके जीवन में लक्ष्य है।

बाकी के लोग किसी और के सपनों के लिए कार्यरत हैं। उनके अपने सपने तो हैं लेकिन बहुत सीमित और उनके सपने उन साधनों पर निर्भर करते हैं जो उन्हें मिल रहे हैं। लक्ष्य की ओर बढ़ने वाले लोग अपने सपनों के लिए जीते हैं। वे अपने सपनों के लिए साधनों का जुगाड़ करते हैं। वे कोशिश करते हैं की उन्हें जो चाहिए उसे प्राप्त करें और बाकी सब लोगों के पास जो है वो उसी में गुजारा करने की कोशिश करते हैं।

जीवन में लक्ष्य साधने की क्या अहमियत है उसके लिए मैं आपको 2 इंसानों के बारे में पहले बताना चाहूँगा। पहला व्यक्ति अपनी कार में निकलता है लेकिन उसे कहाँ जाना है ये निर्णय वो नहीं करता और निकल पड़ता है। अब आप सोच रहे होंगे कि इतना बेवक़ूफ़ कौन होता है जो ऐसे ही निकल पड़े। तो ये वो लोग हाँ जो कहते हैं जिंदगी में आगे क्या करना बाद में सोचेंगे अभी तो खुल कर अपनी जिंदगी जियें। और आगे चल कर वही लोग पछताते हैं।

क्यों जरूरी है लक्ष्य

वैसे तो इस बारे में हमने ऊपर कार की उदाहरण से जान ही लिया कि जीवन में लक्ष्य का होना क्यों जरूरी है। लक्ष्य के होने से इन्सान को कहीं भटकना नहीं पड़ता। उसे इस बात का ज्ञान होता है कि उसे क्या प्राप्त करना है। इस बात का ज्ञान होने पर उसे इस बात का ज्ञान भी हो जाता है कि ये सब प्राप्त करने के लिए उसे क्या-क्या करना होगा। इस प्रकार वह उन लोगों से काफी आगे निकल जाता है जो बिना लक्ष्य के आगे बढ़ते रहते हैं।

Advertisement

Comments are closed.