सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

घर में एयर कंडीशनर लगाने की सोच रहे हैं तो जान लें ये जरूरी बातें

89

यह गर्मी का मौसम है, और ज्यादातर लोगों को बस एक ही बात की चिंता है: एयर कंडीशनर द्वारा बिजली की खपत| कोई आश्चर्य नहीं है कि लोग एयर कंडीशनर खरीदते समय सबसे कम ऊर्जा खपत का ही एयर कंडीशनर पसंद करते हैं, क्यूंकि एयर कंडीशनर काफी आसानी से बिजली के बिल को प्रभावित कर बढ़ा सकते हैं| हालांकि एक कुशल एयर कंडीशनर खरीदने से मदद तो मिलती है, लेकिन बहुत सी ऐसी चीजे है जो एयर कंडीशनर की बिजली की खपत को प्रभावित करती है| एक दिलचस्प शोधपत्र के माध्यम से, हमे एयर कंडीशनर में बिजली की खपत को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारको के ऊपर एक विस्तृत अध्ययन पढ़ने को मिला| हमने उस अध्ययन को संदर्भ मान कर इस लेख में बिजली की खपत पर प्रभाव वाले कारको को यहाँ निम्नलिखित किया है:

1) कमरे का आकार

सभी एसी का मूल्यांकन वाट में होता हैं, लेकिन वे सभी एसी हर वक़्त एक जैसी खपत नहीं करते हैं| अधिकांश 1.5 टन एसी का मूल्यांकन 1.5 किलोवाट से 2 किलोवाट तक होता है| लेकिन उनकी खपत अलग-अलग सेटिंग्स में बदलती रहती है| एक एयर कंडीशनर का काम एक बंद जगह से गर्मी और नमी को दूर करना होता है| हमे यह सुनिश्चित करना चाहिए की यह बिजली की आवश्यक खपत ही करे (एसी के आकार के आधार पर यह कुछ मात्रा में अधिक या कम हो सकता हैं)| इसका मतलब यह है की अगर 1.5 टन का ऐसी 120 वर्ग फुट के कमरे में रखा है, तो वह एक घंटे में उसी स्थान पर (सामान परिस्थितियो में) 150 वर्ग फुट के कमरे की तुलना में बिजली की भिन्न खपत करेगा| क्योंकि 150 वर्ग फुट के कमरे में अधिक गर्मी होगी और इसलिए इसे दूर करने के लिए एसी अतिरिक्त बिजली की खपत करेगा|

2) स्थान (या विभिन्न शहरों के तापमान की स्थिति)

कुछ शहर अपेक्षाकृत गर्म होते हैं; कुछ नम या ठंडे| एक एयर कंडीशनर दो मुख्य कार्य करता है: हवा को ठंडा और नमी को दूर करना| अगर एक शहर अपेक्षाकृत गर्म है, तो अधिकतम बिजली, तापमान को नीचे लाने के लिए खर्च होगी| लेकिन कुछ शहर नम होते हैं और बहुत गर्म भी नहीं होते हैं (जैसे की तटीय क्षेत्र), तो 1.5 टन एसी 2 भिन्न शहरों में एक तरह के तापमान स्थापना करने में बिजली की अलग-अलग खपत करेगा| क्यूंकि तापमान अलग हैं, और कंप्रेसर की स्विचिंग भी तापमान पर निर्भर करती है| कम तापमान वाले शहर में बिजली की खपत भी कम होगी|

यह भी एक बिंदु है की शहरों के अनुसार एक कमरे के लिए आवश्यक एसी का टन भार भी बदले| एक शहर जो बहुत नम है उसे अधिक ठंडक की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन उन शहरों में नमी हटाने की अधिक जरूरत होती है| आर्द्रता हटाने की प्रक्रिया कंप्रेसर चलने के समय पर निर्भर भी करती है| यदि एसी अधिक आकर का है, तो कंप्रेसर छोटे चक्र पर चलेगा और इस प्रकार प्रभावी ढंग से नमी को दूर करने में सक्षम नहीं होगा| इस प्रकार नम जगह के लिए हमे छोटे एसी को खरीदना चाहिए| कुल मिलाकर एयर कंडीशनर का आकार महत्वपूर्ण होता है|

3) कमरे का रंग

कमरे के रंग से, हम सिर्फ दीवारों के रंग की बात नहीं कर रहे है| सभी गहरे रंग गर्मी को अवशोषित करते है| इसलिए अगर आप के पर्दे गहरे रंग के है, तो वह ठंडा करने में सहयोग नहीं करते हैं| अगर आपकी दीवारें गहरे रंग की है तो वे गर्मी को अवशोषित करेंगी| यहां तक ​​कि अगर आप ने कमरे में गहरे रंग के कपडे पहने है, तो वे गर्मी को अवशोषित करेंगे और फलस्वरूप ठंडा होने में अधिक समय लगाएगा| अगर कमरे में सभी ने गहरे रंग के जींस पहनी हुए है, तो इसका मतलब है की आपके एसी को वातानुकूलन के लिए बहुत अधिक काम करना पड़ेगा| ऊपर कही गई कई बातें अधिकांश अपरिहार्य होती हैं, लेकिन फिर भी यह जानकारी आपको मदद कर सकती है|

4) कमरे में लोगों की संख्या

हाल ही में एक दोस्त ने अपने कोचिंग कक्षाओं में आएं बिजली के बिल के बारे में हमें फोन किया| मूल्यांकन करने पर हमे यह एहसास हुआ कि उसके पास 150 वर्ग.फुट के एक छोटे से कमरे में 2×2 टन एसी हैं और कक्षा शुरू होने तक उसे ओन रखना पड़ता है| 40 बच्चों से भरी एक कक्षा में ज्यादा गर्मी होती है, इसलिए ज्यादा ठंडा करने की जरूरत पड़ती है|

मानव शरीर अपनी मेटाबोलिक दर के आधार पर गर्मी का उत्सर्जन करता है| इस प्रकार एक कमरे में अधिक लोगों की संख्या का मतलब अधिक गर्मी होती है और इस प्रकार अधिक ठंडा करने की आवश्यकता होती है| यदि कमरे में अधिक लोगों के होने की उम्मीद हैं, तो कमरे को ठंडा करने के लिए अधिक टन भार के एयर कंडीशनर की आवश्यकता होती है|

5) इलेक्ट्रॉनिक और इलेक्ट्रिकल उपकरणों द्वारा गर्मी का उत्सर्जन

हमने अक्सर निरीक्षण में पाया हैं की हमारे लैपटॉप या कंप्यूटर लंबे ऑपरेशन के बाद गर्म हो जाते है| यहां तक ​​कि मोबाइल फोन भी उसी तरह व्यवहार करते हैं| सभी इलेक्ट्रॉनिक और बिजली के उपकरण गर्मी का उत्सर्जन करते है, जो अगर एयर कंडीशनर चालू है तो ठंडे भी होते है| यहां तक ​​कि बल्ब और अन्य लाइट उपकरण प्रकाश के साथ गर्मी का उत्सर्जन करते हैं (हमारे लेख में इस पर अधिक जानकारी प्रस्तुत है: एलईडी प्रकाश बल्ब खरीदने के लिए जानकारी)| इस प्रकार अगर आप एक कमरे में बहुत अधिक रोशनी करते हैं, तो कमरे को अधिक वातानुकूलन की आवश्यकता होगी| इस प्रकार कम रोशनी का उपयोग करने से कम बिजली खपत और अधिक वातानुकूलन के माध्यम से दोहरा लाभ होता हैं|

6) हर ठोस वस्तु ऊष्मा अवशोषित करती है (इस प्रकार कमरे को कम भरा रखें)

सामग्री से भरे एक गोदाम में आम तौर पर अधिक वातानुकूलन की जरूरत होती है, क्योंकि एक एयर कंडीशनर उस जगह में रखी हर वस्तु को ठंडा करता है| हर ठोस वस्तु गर्मी का वाहक है, और इनकी अधिकता के साथ, एयर कंडीशनर को अधिक वस्तुओ को अधिक ठंडा करने की आवश्यकता होती है| इस प्रकार एक कमरे को भली-भाति संयोजित रखना, न सिर्फ उस कमरे की सुंदरता के लिए सही है, बल्कि एयर कंडीशनर की बिजली खपत को भी कम करता है| अनावश्यक वस्तुओ को अलमारी में बंद रखने से, एक एयर कंडीशनर द्वारा वातानुकूलन के लिए इस्तेमाल योग्य बिजली को कम किया जा सकता है| दीवारें भी गर्मी को अवशोषित करती है इसलिए दीवारों का इन्सुलेशन भी महत्वपूर्ण होता है|

और अब कुछ बातें जो हम पिछले लेख में पहले से ही कर चुके हैं:

7) एयर कंडीशनर का तापमान

बिजली की बचत के लिए आदर्श एयर कंडीशनर का तापमान पर हमारे पिछले लेख – बिजली बचत के लिए आदर्श एयर कंडीशनर तापमान, में हमने लिखा था की एयर कंडीशनर की बिजली की खपत थर्मोस्टेट तापमान पर निर्भर करती है| आप एयर कंडीशनर का तापमान जितना कम रखेंगे बिजली की खपत उतनी ही अधिक होगी|

8) ठंडा होने वाली जगह का आकार

बिंदु 1 में हमने बताया हैं की कमरे का आकार बिजली की खपत को प्रभावित करता है| इसका अनिवार्य रूप से मतलब यह है की एक बड़े कमरे में अधिक जगह होगी, जो ठंडा होने के लिए अधिक बिजली की खपत भी करेगा| पिछले लेख में: बंद दरवाजों और खिड़कियों द्वारा एयर कंडीशनर पर प्रभाव और बिजली बचत में वृद्धि, हमने कहा की कैसे अगर दरवाजे और खिड़कियां बंद नहीं होती है, ठंडा होने वाली जगह में इज़ाफ़ा हो जाता है| इस प्रकार यह महत्वपूर्ण है की कमरा पूरी तरह से बंद हो जो की ठंडा होने वाली जगह के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करता है| इसका यह भी मतलब है की जब एयर कंडीशनर चालू है तब कमरे में अलमारी आदि के दरवाजे बंद होने चाहिए| अलमारी का खुला दरवाजा न केवल ठंडा करने के लिए अतिरिक्त जगह को बढ़ाता है बल्कि कमरे में ठंडा होने वाली वस्तुओं की संख्या को भी बढ़ाता है|

ऊपर उल्लेखित सभी कारक न केवल एयर कंडीशनर पर भार को प्रभावित करते हैं, बल्कि आपके बिजली के बिल और आपकी एयर कंडीशनर खरीदने की पूंजी लागत को भी प्रभावित करते हैं| अगर वातावरण अच्छी तरह से अनुकूलित हैं, तब एक छोटे आकार का एसी भी प्रभावी ढंग से कमरे को ठंडा रख सकता है|

Advertisement

Comments are closed.