सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

गर्भावस्था में चक्कर आना इन तीन बीमारियों के हैं संकेत

8
डेस्क: साइंस की बात करें तो जब कोई महिला गर्भवती हो जाती हैं तो गर्भावस्था में उसके शरीर में कई तरह की परेशानियां जन्म ले लेती हैं। उन परेशानियों में से एक परेशानी चक्कर आने के होते हैं। महिलाएं इसे एक नॉर्मल समस्या समझकर नजरअंदाज कर देती हैं। आज जानने की कोशिश करेंगे उन बीमारियों के बारे में जिन बीमारियों के संकेत गर्भावस्था में चक्कर आने की समस्या हो सकता हैं। तो आइये जानते हैं विस्तार से की गर्भावस्था में चक्कर आना इन तीन बीमारियों के हैं संकेत। 
1 ,एनीमिया की बीमारी, गर्भावस्था में चक्कर आना एनीमिया बीमारी के संकेत होते हैं। क्यों की जब कोई महिला गर्भवती होती हैं तो गर्भवती होने के बाद महिलाओं के शरीर में खून की कमी हो जाती हैं। जिसके कारण महिलाएं एनीमिया की बीमारी का शिकार हो जाती हैं। इस बीमारी के शिकार होने से गर्भवती महिलाओं को चक्कर आते हैं और उनके शरीर में थकान की समस्या बनी रहती हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और आयरन युक्त आहार का सेवन करना चाहिए। 
 
2 .रक्तचाप की बीमारी, गर्भावस्था में चक्कर आना रक्तचाप बीमारी के संकेत होते हैं। क्यों की जब कोई महिला गर्भवती होती हैं तब उसके शरीर का ब्लड सर्कुलेशन अनियंत्रित हो जाता हैं। जिसके कारण महिलाएं रक्तचाप की समस्या से ग्रसित हो जाती हैं। इस बीमारी के कारण महिलाओं को चक्कर आते हैं और महिलाएं खुद को थका  थका का ऊर्जाहीन महसूस करती हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को रक्तचाप की जांच करानी चाहिए और डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। रक्तचाप से छुटकारा पाने के लिए मॉर्निंग वॉक करना भी फायदेमंद साबित होता हैं। 
 
3 .तनाव और डिप्रेशन, जब कोई महिला गर्भवती हो जाती हैं तो गर्भावस्था में महिलाओं के दिमाग में स्ट्रेस हार्मोन्स का लेवल बढ़ जाता हैं। जिसके कारण दिमाग की कार्य प्रणाली प्रभावित होती हैं और न्यूरो सिस्टम भी कमजोर हो जाता हैं। इससे महिलाओं के दिमाग में तनाव और डिप्रेशन की समस्या जन्म ले लेती हैं। इससे महिलाओं को चक्कर आते हैं और गर्भवती महिलाएं खुद को चिड़चिड़ा महसूस करती हैं। इस समस्या से बचने के लिए महिलाओं को प्रतिदिन कैल्शियम और फाइबर युक्त आहार का सेवन करना चाहिए तथा हैप्पी लाइफ एन्जॉय करनी चाहिए। 

Advertisement

Comments are closed.